पठानकोट एयरबेस और हाल में कश्मीर में तनाव के बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह बुधवार को इस्लामाबाद जा रहे हैं। सार्क देशों के गृहमंत्रियों के सम्मेलन में वो शिरकत करेंगे। हाफिज सईद की धमकी के बाद राजनाथ सिंह की सुरक्षा में 200 कमांडो तैनात किए जाएंगे। बताया जा रहा है कि कॉन्फ्रेंस में गृहमंत्री मुंबई हमलों के मुद्दे को भी उठा सकते हैं। जानकारों का मानना है कि गृहमंत्री के इस्लामाबाद दौरे से दूसरे मुल्कों को ये संदेश देेने की कोशिश है कि भारत क्षेत्रीय शांति के लिए प्रतिबद्ध है।

दो दिन तक चलने वाले कॉन्फ्रेंस के इतर गृहमंत्री राजनाथ सिंह नवाज शरीफ सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों से भी मुलाकात करेंगे। राजनाथ सिंह वैसे तो सार्क देशों के गृहमंत्रियों के सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। लेकिन कश्मीर में हाल ही में हिज्बुल आतंकी बुरहान वानी के सफाए का मामला भी भारत उठा सकता है। गौरतलब है कि बुरहान वानी के समर्थन में पाकिस्तानी रुख की भारत सरकार ने कड़ी आलोचना की थी।

गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि सार्क में मल्टीलेट्रल मीटिंग होती है। वहां कुछ बाध्यताएं होती हैं। गृहमंत्री राजनाथ सिंह पाकिस्तान के गृहमंत्री से अलग से कोई मीटिंग नहीं करेंगे। पाकिस्तान कश्मीर में हिंसा भड़का कर और आतंकी बुरहान वानी का मुद्दा उठाकर घाटी में माहौल अशांत कर रहा है। इसकी आड़ में वो द्विपक्षीय वार्ता को ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश कर रहा है। इन हालात में अगर भारत मीटिंग में हिस्सा नहीं लेता तो पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय फोरम में बेवजह मुद्दा बनाता।

SAARC समिट में शामिल होने के लिए इस्लामाबाद रवाना होंगे राजनाथ

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-