smart_chip_in_atm

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने अब स्मार्ट चिप वाले एटीएम कार्ड जारी करने का निर्देश दिया है। इससे धोखाधड़ी पर अंकुश लगने के साथ-साथ राष्ट्रीयकृत बैंकों के ग्राहकों को कई अन्य तरह की सुविधाएं भी मिलेंगी।

नए चिप लगे सेफ्टी फीचर वाले एटीएम कार्ड गुम हो जाने या फिर चोरी चले जाने की स्थिति में भी एटीएम से पैसा निकाल लेने या फिर ऑनलाइन खरीदी करने का भय नहीं रहेगा। एटीएम धारकों को जल्द ही इस तरह की दिक्कतों से निजात मिलने वाली है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को लगातार कुछ इस तरह की शिकायतें मिल रही थी कि ऑनलाइन खरीदी में जमकर धोखाधड़ी की जा रही है। आमतौर पर इस बात की शिकायतें मिलती रही है कि कार्ड गुम हो जाने की स्थिति में फर्जीवाड़ा करने वाले नगदी निकालने के बजाय मॉल या शॉपिंग कॉम्पलेक्स में जाकर ऑनलाइन खरीदी कर पूरी रकम एक झटके में निकाल लेते थे।

धोखाधड़ी के शिकार हो रहे एटीएम कार्डधारकों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इसे देखते हुए अब अत्याधुनिक तकनीक से लैस सेफ्टी फीचर्स वाले एटीएम कार्ड जारी किया जाएगा। पुराने मैग्नेटो कार्ड की जगह चिप और पिन वाले नए कार्ड जारी किए जाएंगे। नया एटीएम कार्ड गुम गया और किसी ऐसे व्यक्ति के हाथों में चला गया जो प्रोफेशनल तरीके से रकम डकारने वाला है तो भी नए एटीएम से राशि नहीं निकाल सकेंगे। इसकी खासियत ये कि धोखाधड़ी करने वाला एटीएम से पिन नंबर को स्वैप ही नहीं कर पाएगा। मसलन पूरी जानकारी गोपनीय रहेगी। मसलन पूरी जानकारी बैंक में ही सुरक्षित रहेगी।

कार्डधारक ऐसे होते हैं धोखाधड़ी के शिकार

बैंकों द्वारा जो एटीएम कार्ड जारी किया जा रहा हेै उसका उपयोग डेबिट कार्ड की तरह भी किया जा रहा है। डेबिट कार्ड में मैग्नेटिक स्ट्रिप लगी होती है। इसे स्वैप मशीन में स्वैप करने और पासवर्ड देने पर रुपए बाहर आ जाता है। इसके अलावा गुपचुप तरीके से हिडन कैमरे के जरिए कार्ड का पासवर्ड ले लिया जाता है। कैमरे में छुपे नंबर का बाद में उपयोग कर लिया जाता है। कार्डधारकों को भनक भी नहीं लगती और उसकी जमापूंजी एक झटके में साफ कर दी जाती है। कार्ड के पीछे जारी किए गए नंबर में से तीन नंबर को बताने से ऑनलाइन खरीदी के दौरान संबंधित एटीएम कार्ड से राशि निकाल ली जाती है।

पैसा जमा रहने की पूरी गारंटी

चिप वाले एटीएम कार्ड के जरिए ऑनलाइन खरीदी के दौरान पूरा कार्ड स्वैप करना पड़ेगा । हिडन कैमरा भी नंबरों को पकड़ नहीं पाएगा। इसके अलावा सुरक्षा फीचर्स के जरिए पूरी जानकारी गोपनीय रखी जाएगी । एटीएम में लगाए जाने वाला चिप ही कार्ड की सुरक्षा की गारंटी है।

तो आएगा तत्काल एसएमएस

एटीएम कार्ड गुम हो जाने या फिर चोरी चले जाने की स्थिति में कोई राशि निकालने की गरज से एटीएम कार्ड को मशीन में स्वैप करता है तो तत्काल ग्राहक के मोबाइल नंबर पर एसएमएस आ जाएगा। मैसेज के जरिए बैंक अपने ग्राहक को तुरंत सचेत कर देगा और ग्राहक बैंक पहुंचकर अपना एटीएम लॉक करा सकेंगे। हालांकि इस दौरान जिनके कब्जे में एटीएम है वह चाहकर भी एटीएम से न तो ऑनलाइन खरीदी कर सकेगा और न ही मशीन से रुपए निकाल पाएगा।

महिला ग्राहकों को प्राथमिकता

आरबीआई के निर्देशों के तहत राष्ट्रीयकृत बैंकों द्वारा सबसे पहले महिला ग्राहकों को चिप वाले एटीएम कार्ड जारी किया जाएंगे। एटीएम कार्ड जारी करने से पहले ग्राहकों को बैंक मैसेज के जरिए जानकारी भेजेगा । इस दौरान जरूरी औपचारिकता पूरी करनी होगी। पुराने कार्ड को सरेंडर करने के बाद नए कार्ड जारी किए जाएंगे ।

एटीएम के जरिए धोखाधड़ी का शिकार होने वालों की भी कमी नहीं है। जबड़ापारा सरकंडा निवासी मुकेश मिश्रा के मोबाइल नंबर पर किसी ने बैंक अधिकारी होने की झूठी जानकारी देते हुए एटीएम का नंबर पूछ लिया । इस दौरान उन्होंने श्री मिश्रा को एटीएम को अपडेट करने का झांसा दिया । उनके झांसे में फंस गए और अपना एटीएम नंबर बता डाले। पिन नंबर बताने के चंद मिनटों के अंदर उनके एकाउंट से 50 हजार रुपए निकल गए । हालांकि उन्होंने इस बात की शिकायत पुलिस और साइबर सेल में कराई है इसके बाद भी उनकी राशि अब तक नहीं मिल पाई है।

बीते महीने मस्तूरी के एक किसान राममोहन के पास कुछ इसी तरह का फोन आया। एटीएम कार्ड को अपडेट करने का खुलासा करते हुए पिन नंबर पूछ लिया । पिन नंबर बताते ही खाते में जमा 30 हजार रुपए निकल गए। मस्तूरी थाना में उसने धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई है।

 

ATM कार्ड गुम जाए तो स्मार्ट चिप से पैसा रहेगा सुरक्षित

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-