राजनीतिक पार्टियों को किस तरह के डोनर से कितना चंदा मिलता है इसकी एक रिपोर्ट आई है। इसमें बताया गया है कि पिछले 11 सालों में यानी 2004-05 से 2014-15 के बीच लगभग सभी राजनीतिक पार्टियों को जो चंदा मिला उसमें से 6,800 करोड़ रुपए अज्ञात स्त्रोतों से था। यह आंकड़े एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (ADR) द्वारा दिए गए हैं। यह एक एनजीओ है। इस वक्त में इन सभी पार्टियों को कुल 11 हजार करोड़ रुपए मिले। इसमें से 6,800 करोड़ रुपए अज्ञात स्त्रोतों से आए।

कांग्रेस: इस वक्त के बीच कांग्रेस सबसे ज्यादा सत्ता में रही। इस वक्त में उसे कुल 4,000 करोड़ रुपए मिले। जिसमें से 83 प्रतिशत रुपए अज्ञात स्त्रोतों से आए। इन पैसों की जानकारी ना तो चुनाव आयोग को दी गई और ना ही इनकम टैक्स विभाग को।

बीजेपी: मई 2014 में सत्ता में आई बीजेपी ने भी कांग्रेस की तरह ही काम किया। उसे अबतक कुल 3,273 करोड़ रुपए का चंदा मिला। इसमें से 65 प्रतिशत पैसा अज्ञात स्त्रोतों से आया।

आम आदमी पार्टी: आप का निर्माण करते हुए उसके शीर्ष नेताओं ने वादा किया था कि पार्टी भ्रष्टाचार को मिटाने की दिशा में काम करगी और पूरी तरह से पारदर्शी होगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पिछले तीन सालों (2013-2015) में उसे 110 करोड़ रुपए मिले। उसमें से 57 प्रतिशत पैसा अज्ञात स्त्रोतों से आया। इसके अलावा सीपीएम को कुल 893 करोड़ रुपए मिले जिसमें से 53 प्रतिशत अज्ञात स्त्रोतों से थे। उसे यह पैसा उसे पिछले 11 सालों में मिला।

बहुजन समाज पार्टी: बसपा को 764 करोड़ रुपए का चंदा मिला। लेकिन उसने किसी एक भी शख्स के बारे में चुनाव आयोग को जानकारी नहीं दी।

दरअसल, अभी के नियमों के हिसाब से किसी भी पार्टी को बस उन स्त्रोतों का खुलासा करना होता है जिनसे उन्हें 20 हजार रुपए से ज्यादा मिलते हैं। चुनाव आयोग ने इसमें परिवर्तन लाने की बात भी की थी लेकिन अबतक कुछ नहीं हुआ।

AAP का 57 प्रतिशत, कांग्रेस का 83 प्रतिशत चंदा अज्ञात स्रोत से

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-