भाजपा और शिवसेना के बीच बृहन्‍मुंबई महानगरपालिका चुनावों के लिए सीट बंटवारे पर गतिरोध जारी है। शिवसेना ने 60 सीटें देने का प्रस्‍ताव रखा है, जिसे भाजपा ने अपना अपमान बताया है। हालांकि अभी गठबंधन का रास्‍ता बंद नहीं हुआ है लेकिन दोनों दल एक दूसरे पर हमले बोल रहे हैं। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, भाजपा को 60 सीट का प्रस्‍ताव उनकी राजनीतिक ताकत से ज्‍यादा है। फिर भी उद्धव ठाकरे ने उदारता दिखाई और उन्‍हें हक से ज्‍यादा दिया है।

भाजपा नेताओं ने मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस पर शिवसेना के अपमानजनक रुख गहरी नाराजगी जताई है। मुंबई भाजपा अध्‍यक्ष आशीष शेलार ने बताया, ”हमें 60 सीट देने का शिवसेना का दुस्‍साहस भाजपा का अपमान है। हमने हमारी आपत्ति जाहिर कर दी है।”

भाजपा को 60 सीटें देने के प्रस्‍ताव के बाद उद्धव ठाकरे ने इशारा किया कि सीट समझौते को किसी समयसीमा में नहीं रखा जा सकता। गठबंधन पर आखिरी फैसला प्रस्‍ताव को देखे जाने के बाद ही लिया जाएगा। भाजपा नेताओं के अनुसार, उनकी पार्टी शिवसेना से गठबंधन की इच्‍छुक है।

शिवसेना के सूत्रों के अनुसार उद्धव गठबंधन को धर्मसंकट में हैं। एक तरफ वे भाजपा से साझेदारी चाहते हैं लेकिन दूसरी ओर डरते हैं कि ज्‍यादा सीटें देने पर पार्टी के अंदर विद्रोह हो जाएगा। शिवसेना ने पिछले चुनावों में 227 में से 135 सीटों पर चुनाव लड़ा था। इस बार भाजपा का कहना है कि वह 117-120 सीट पर ही लड़े। सूत्रों के अनुसार ठाकरे इस समय किसी तरह की बागी गतिविधियां सहन नहीं कर सकते।

60 सीटों से ज्या दा की आपकी औकात नहीं : शिवसेना

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-