dad-daughter 13 10 2016

गुजरात हाईकोर्ट ने एक व्‍यक्ति द्वारा दायर याचिका को ठुकरा दिया है जिसने अपनी बेटी को 250 रुपए की मामूली राशि देने से यह दावा करते हुए इनकार कर दिया कि वह उसका जैविक पिता नहीं है। हालांक‍ि डीएनए सबूत उनके दावों को खारिज करते हैं और पुष्टि करते हैं कि यह नाबालिग लड़की उसकी की बेटी है। इसके बावजूद याचिकाकर्ता इस बात को ही कह रहा है किवह उसकी बेटी नहीं है और इसलिए उसे गुजराभत्‍ता देने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता।

इस मामले में याच‍िकाकर्ता और उसकी पत्‍नी के बीच विवाद साल 2000 में शुरू हुआ था। अपने पति के छोड़ देने के बाद, पत्‍नी ने शहर के फैम‍िली कोर्ट में आवेदन किया जिसमें उसके और अपनी नाबालिग बेटी के लिए गुजाराभत्‍ता की मांग की गई थी। सुनवाई के कुछ महीनों बाद, कोर्ट ने महिला को 500 रुपए और बेटी को 250 रुपए देने का आदेश दिया था।

250 रुपए के लिए पिता ने बेटी मानने से किया इनकार

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-