दक्षिण गुजरात के तापी जिला में स्थित उकाई डैम में पानी कम होने की वजह से 19 साल बाद एक बार फिर पानी में डूबा उकाई का गायकवाड़ी किला दिखाई दिया है। इस साल बढ़ती गर्मी और पानी की कमी के चलते उकाई डैम का पानी लगातार कम हो रहा था, जिस वजह से पानी में डूबा गायकवाड़ी किला 1997 के बाद पहली बार देखने को मिला है।

डैम बनाने के बाद यह दूसरी बार दिखाई दिया है। माना जा रहा है कि जब डैम बनाया गया तो गायकवाड़ी किला, तोप, दीवार और कई एंटीक चीजें पानी में डूब गई थीं। अब जब पानी कम हुआ है तो गायकवाड़ी किले की दीवार, तोप जैसी कई चीजें दिखाई दे रही हैं, जिसके कारण इस किले को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग जुट रहे हैं।

गायकवाड़ किले का इतिहास

सोनगढ़ के पास आया गायकवाड़ी किला 1729 में गायकवाड़ का मुख्य महल माना जाता था। यहां पिलाजीराव गायकवाड़ ने 1719 में सोनगढ़ के भीलों के पास से पहाड़ जीत कर यहां आलीशान गायकवाड़ी किला बनाया था। ऐसे गायकवाड़ी राज की शुरुआत सोनगढ़ में हुई थी। किले के पास लगे शिलालेख के मुताबिक, ये किला पिलाजीराव गायकवाड़ ने 1728-29 में बनवाया था।

 

डैम का पानी घटा तो नजर आया राजा का किला

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-