sheila-dixit_1467712747

तीन कार्यकाल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रह चुकीं शीला दीक्षित को कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार के रूप में चुना है। पार्टी सूत्रों के अनुसार इसकी औपचारिक घोषणा गुरुवार शाम तक हो सकती है।

हालांकि कुछ समय पहले तक 78-वर्षीय शीला दीक्षित इस बात से असहमत लग रही थीं और उत्तर प्रदेश जाकर चुनाव लड़ने को वे हारी हुई बाज़ी खेलने जैसा मान रही थीं। यही कारण है कि उन्होंने इस पेशकश को ठुकरा भी दिया था।

लेकिन पिछले चंद रोज पहले ही एक न्यूज चैनल को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वह वही करेंगी, जैसा पार्टी उनसे चाहेगी। यही नहीं उन्होंने खुद को  ‘उत्तर प्रदेश की बहू’ भी बता दिया था। शीला दीक्षित ने कहा कि जिन लोगों का दावा है कि वह बाहरी उम्मीदवार हैं, वह सच्चाई से वाकिफ नहीं हैं।

अगले साल की शुरुआत में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस रणनीति तैयार करने में जुटी हुई है। प्रचार के दौरान प्रियंका गांधी वाड्रा की भूमिका को लेकर भी काफी विचार-विमर्श जारी है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी ही पार्टी के शीर्ष नेता हैं। अब तक के चुनावों में प्रियंका ने इन्हीं दोनों के चुनाव क्षेत्रों क्रमशः रायबरेली और अमेठी में पार्टी के लिए प्रचार किया है, लेकिन मांग है कि प्रियंका राज्य के अन्य हिस्सों में भी प्रचार करें और चुनाव लड़ें भी।

2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी और बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार को जिताने वाले रणनीतिकार प्रशांत किशोर इस बार कांग्रेस से जुड़े हैं। उनकी टीम के सूत्रों के अनुसार, वह राज्य में मुख्यमंत्री पद के लिए कोई ब्राह्मण चेहरा चाहते हैं, जिसमें शीला दीक्षित फिट बैठती हैं।

इसके अलावा प्रशांत किशोर के मुताबिक दिल्ली की मुख्यमंत्री के रूप में उनका तजुर्बा उत्तर प्रदेश के लोगों को भी लाभान्वित कर सकता है, जो अपने राज्य के पिछड़ेपन से दुःखी हैं।

होंगी यूपी में कांग्रेस की सीएम पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-