malya

भारतीय बैंकों को 9000 करोड़ रुपये का चूना लगाकर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने पूछताछ के लिए हाजिर नहीं होना ब्रिटेन में बैठे उद्योगपति विजय माल्या के लिए महंगा सौदा साबित होगा। हाजिर नहीं होने की स्थिति में भारत में स्थित उनकी सारी संपत्तियां जब्त हो सकती हैं। भले ये संपत्तियां मनी लांड्रिंग के दायरे में आएं या नहीं। ईडी ने इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है। इसके लिए सबसे पहले विजय माल्या को अदालत से भगोड़ा घोषित कराया जाएगा।

ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विजय माल्या के पास भारत आकर जांच का सामना करने के अलावा कोई रास्ता नहीं है। यदि वे भारत नहीं आते, तो अगले हफ्ते उन्हें भगोड़ा घोषित कराने के लिए अदालती कार्यवाही शुरू कर दी जाएगी। एक बार भगोड़ा घोषित होने के बाद एजेंसी विजय माल्या की सारी संपत्ति को जब्त कर सकती है। इसके लिए मनी लांड्रिंग रोकथाम कानून की जरूरत नहीं है। मनी लांड्रिंग के तहत केवल उन्हीं संपत्तियों को जब्त किया जा सकता है, जो अवैध तरीके से बनाई गई हों। लेकिन भगोड़ा साबित होने के बाद वैध संपत्तियों को जब्त होने का रास्ता भी खुल जाएगा।

दरअसल ईडी धीरे-धीरे विजय माल्या के खिलाफ शिकंजा कसता जा रहा है। सबसे पहले विजय माल्या को पूछताछ के लिए हाजिर होने के लिए समन भेजा गया। इस पर विजय माल्या ने समय मांग लिया। ईडी ने समय दे भी दिया। दूसरी तारीख पर पूछताछ के लिए नहीं आने के बाद माल्या को तीसरा समन भी भेज दिया गया। लेकिन माल्या के हाजिर नहीं होने पर ईडी ने तेवर कड़े कर लिए।

ईडी ने न सिर्फ माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट के लिए अदालत में अर्जी लगा दी, बल्कि विदेश मंत्रालय से पासपोर्ट रद्द करने का अनुरोध भी कर दिया। गैर जमानती वारंट जारी होने और पासपोर्ट रद होने के बाद ईडी ने विदेश मंत्रालय से माल्या को वापस लाने के लिए कूटनीतिक प्रयास करने को कहा।

इसके बाद विदेश मंत्रालय ने ब्रिटेन से औपचारिक रूप से माल्या को भेजने को कह दिया। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यदि माल्या को वापस लाने में विदेश मंत्रालय के प्रयास सफल नहीं होते हैं, तो अगले हफ्ते भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी और उसके बाद उनकी संपत्तियां भी जब्त कर ली जाएंगी।

हाजिर नहीं हुए तो माल्या की सारी संपत्ति होगी जब्त

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-