पीएम मोदी पांच देशों की यात्रा के दौरान फिलहाल अमेरिका में हैं। यहां राष्‍ट्रपति बराक ओबामा से मुलाकात के बाद यूएस ने भारत में एनएसजी में प्रवेश के समर्थन के अलावा कई करार भी किए हैं। मोदी का यात्रा को लेकर विदेशी मामलों पर अमे‍रिकी हाउस ऑफ कमेटी के चेयरमैन एडी रॉयस ने बयान दिया है।

रॉयस ने मीडिया से बात करते हुए पठानकोट हमलों के अलावा पाकिस्‍तान में मदरसों को बंद करने की भी वकालत की। उन्‍होंने कहा कि पठानकोट के हमलावरों को सजा मिलनी चाहिए, यह अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय की जिम्‍मेदारी है कि वो कुछ चीजों के लिए साथ मिलकर काम करे।

अगर आतंकियों पर इस्‍लामाबाद में केस नहीं चलता है तो उन्‍हें हेग के सामने पेश करते हुए इंसानियत के खिलाफ अपराध के आरोप लगाए जाने चाहिए। उन्‍होंने आगे कहा कि हमें यह संदेश देना चाहिए कि आतंकी हमलों के खिलाफ हम एक हैं। रॉयस आगे बोले कि मुंबई में हुए हमले के बाद में भारत गया था और वहां के अधिकारियों से बात कर यह जानने की कोशिश की‍ कि हम कैसे और ज्‍यादा सहयोग कर सकते हैं।

इसी समय हम कोश‍िश कर रहे थे कि पाकिस्‍तान सरकार पर दबाव बनाते हुए यह समझाया जाए कि अगला नंबर उनका है। अगर आतंकी इसी तरह से हमले करते रहे तो अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय को दबाव बनाना ही होगा। हमें और ज्‍यादा करीब आकर आतंकी विरोध चीजों पर काम करना होगा।

रॉयस ने आगे कहा कि हमें नई तकनीक अपनानी होगी जिससे हम हक्‍कानी नेटवर्क और दूसरे आतंकी संगठनों की कमर तोड़ सकें। हमें पाकिस्‍तान में चल रहे 600 देवबंदी स्‍कूलों को बंद करना होगा। गल्‍फ देशों से इन स्‍कूलों को धन मिलता है और यहां से फिर इन स्‍कूलों से कट्टरपंथी सोच वाले युवक बाहर निकलते हैं।

एनएसजी में भारत के प्रवेश को लेकर रॉयस ने कहा कि हम भारत के प्रवेश के लिए काम करेंगे। हम इसके लिए हर संभव ताकत लगाएंगे क्‍योंकि भारत सरकार ने हमें बताया है कि यह उनके लिए कितना जरूरी है।

पीएम मोदी की तारीफ करते हुए उन्‍होंने कहा कि गुजरात में आए भूंकप के बाद मैं वहां गया था। वहां मैंने मुख्‍यमंत्री मोदी को देखा, वो चीजों को व्‍यवस्थित करने में लगे थे और खराब परिस्थिति के बीच व्‍यवस्‍था बना रहे थे। मुझे लंबे समय से लगता है कि पीएम मोदी में नेतृत्‍व क्षमता है और मैं मानता हूं कि सीनेट और हाउस के सदस्‍यों को उनकी बात सुननी चाहिए।

 

हमें पाकिस्‍तान में बंद करने होंगे 600 देवबंदी स्‍कूल : एडी रॉयस

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-