mayawati_1465226443

बसपा सुप्रीमो मायावती ने स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी छोड़ने पर प्रेस कांफ्रेंस कर सफाई दी और स्वामी के लगाए सारे आरोपों का जवाब दिया।

उन्होंने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य परिवारवाद को बढ़ावा देते रहे। अगर वह इस्तीफा न देते तो हम उन्हें पार्टी से निकाल देते।

मायावती ने टिकट बेचने के आरोप पर जवाब दिया कि मैंने स्वामी प्रसाद मौर्य के लड़के और लड़की को 2012 के विधानसभा चुनाव में टिकट दिया, अब वो खुद बताएं कि उन्होंने इसके एवज में पार्टी को कितने पैसे दिए।

स्वामी पर जवाबी हमला करते हुए मायावती ने कहा कि वह कई पार्टियों से कूदकर बसपा में आए हैं ‌वो सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के पुराने साथी रहे हैं और कई पार्टियों में रहने के बाद बसपा में आए, इसलिए उन पर कई पार्टियों का रंग चढ़ा हुआ था।

बसपा सुप्रीमो ने कहा, मैंने उन्हें बड़ा पद दिया मान-सम्मान दिया, लेकिन वो परिवारवाद को  बढ़ावा देना चाहते थे, जिसका मैंने हमेशा विरोध किया।

 

मायावती ने कहा कि कई बार मेरे विपक्षी मुझ पर दलित की नहीं, दौलत की बेटी होने का आरोप लगाते हैं जबकि सच तो यह है कि बसपा के कार्यकर्ता मुझे कभी धन की कमी होने ही नहीं देते हैं। जो आर्थिक रूप से मजबूत हैं वो अधिक सहायता देते हैं और जो कमजोर हैं वो अपनी सामर्थ्य के अनुसार मुझे सहायता देते हैं।

मायावती ने कहा कि स्वामी को खुद बताना चाहिए कि उन्होंने बसपा को अपनी बेटी व बेटे को टिकट देने के एवज में कितने पैसे दिए।

मायावती ने खुलासा किया कि 2012 में उन्होंने अपनी बेटी के लिए आगरा मंडल से तो बेटे के लिए रायबरेली के ऊंचाहार से टिकट मांगे थे , मैं उन्हें टिकट नहीं देना चाहती ‌थी लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की सलाह पर मैंने उन्हें टिकट दिया। उनके दोनों बच्चे चुनाव हार गए।

मायावती ने कहा कि वो अब फिर से विधानसभा के चुनाव के लिए अपने बच्चों को एक और मौका देने की बात कह रहे थे, लेकिन मैने जैसे 2014 के लोकसभा चुनाव में इंकार किया था फिर से मना कर दिया।

मायावती ने कहा कि जब कांशीराम जी ने बसपा का गठन किया था तभी उन्होंने कहा था मैं अपने परिवार को राजनीति से दूर रखूंगा और उन्होंने अपना ये वादा अंतिम समय तक निभाया।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि जब कांशीराम ने मुझे पार्टी का उत्तराधिकारी घोषित किया तभी मैंने भी कसम खाई थी कि जब तक मैं कभी भी परिवारवाद को बढ़ावा नहीं दूंगी। मैंने कभी अपने माता-पिता व भाई-बहन को एमपी व एमएलए का टिकट नहीं दिया।

उन्होंने मुलायम सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि अन्य पार्टियों में यही होता है कि पहले खुद के लिए टिकट फिर बच्चों के लिए टिकट और फिर उनके बच्चों के लिए टिकट देकर उन्हें राजनीति में लाया जाता है। बसपा सुप्रीमो ने कहा कि हमारी पार्टी में ऐसा नहीं होगा, अच्छा हुआ स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा छोड़ दी, वरना मैं खुद उन्हें पार्टी से निकाल देती।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी छोड़कर बड़ा उपकार किया: मायावती

| उत्तर प्रदेश, लखनऊ | 0 Comments
About The Author
-