sex-worker

2 जून का दिन इंटरनेशनल सेक्स वर्कर डे के रूप में सेलिब्रेट किया गया। इस मौके पर dainikbhaskar.com ने ताज नगरी के बदनाम कश्मीरी बाजार में देह व्यापार के लिए लाई गईं महिलाओं से बातचीत की। महिलाओं ने अपने ऊपर हुए जुल्म और बदसलूकियों की दुखभरी दास्तां सुनाई। उनके मुताबिक, नशे का इंजेक्‍शन देकर और प्रताड़ित कर जबरन देह व्‍यापार करवाया जा रहा है।
 गत 15 मई को पुणे की रहनेवाली दिशा (बदला हुआ नाम) कश्‍मीरी बाजार से भागकर पंचशील आश्रय गृह पहुंची। दिशा ने बताया, “6 साल पहले मुझे एक पहचान की महिला आगरा घुमाने लाई थी। यहां पर मुझे उसने रेड लाइट एरिया बसई में बेच दिया।” उसने बताया, “बसई आने के बाद जब मैंने उनकी बात मानने से मना कर दिया तो मेरे साथ रेप किया गया। मुझे नशे का इंजेक्‍शन दिया जाता था।”  “दो महीने बाद उनका एक साथी मुझे कश्‍मीरी बाजार के कोठे में ले आया। यहां मुझसे जबरन देह व्‍यापार करवाया गया। इन 6 सालों में कई बार मैंने यहां से निकलने की कोशिश की, लेकिन सफल न हो सकी।”  “जो लड़कियां सेक्‍स से इनकार करती हैं, उनकी पिटाई होती है। अंधेरी कोठरी में बंद कर दिया जाता है। कड़ी निगरानी की वजह से यहां मौत भी नसीब नहीं है।”
975 से लगातार 2 जून का दिन इंटरनेशनल सेक्स वर्कर डे के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है।  इस दिन सेक्स वर्कर्स का सम्मान किया जाता है।  सेक्स वर्कर्स को जिन मुश्किल हालातों से गुजरना पड़ता है, उसी संघर्ष को इस दिन सम्मानित किया जाता है।

सेक्स वर्कर का धंधा न छोड़ दें लड़कियां, तभी करते हैं टॉर्चर

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-