सुप्रीम कोर्ट ने राजद विधायक रविंद्र सिंह पर 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने यह कदम विधायक की एक गैरजरूरी याचिका दायर करने से नाराज होकर लगाया है। कोर्ट यह जुर्माना लगाकर उन लोगों को चेतावनी देना चाहता है, जो आदतन गैरजरूरी याचिका दायर कर कोर्ट का कीमती समय बर्बाद करते हैं। विधायक रविंद्र सिंह ने यह याचिका साल 1994 में छपे एक लेख को लेकर दायर की थी। इससे नाराज कोर्ट ने कई बार विधायक को लताड़ा। कोर्ट ने विधायक को लताड़ते हुए कहा कि ‘इस तरह की तुच्छ मुकदमेबाजी से बाहर आइए’। कोर्ट ने यह सवाल भी उठाया कि आखिर इस तरह की याचिकाएं वह स्वीकार ही क्यों करे? इस तरह की व्यर्थ की याचिकाओं में हर रोज कोर्ट का कीमती वक्त जाया होता है और इन याचिकाओं की संख्या में कई गुना बढ़ोतरी हो रही है।

कोर्ट ने आगे कहा, “हम यह समझ पाने में असमर्थ हैं कि आखिर याचिकाकर्ता ने 1994 में छपे लेख के खिलाफ हाईकोर्ट में 2015 में याचिका क्यों दायर की। फिर 2016 में आए हाईकोर्ट के निर्णय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका क्यों दायर की, क्या इनकी याचिका इसलिए महत्वपूर्ण है कि वह एमएलए हैं।”

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार के एमएलए पर लगाया 10 लाख जुर्माना

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-