ready to appear before sc but can i do so asks former justice markandey katju

सुप्रीम कोर्ट की तरफ से सौम्या मामले में अपने फैसले की आलोचना करने पर पूर्व न्यायाधीश को समन जारी करने पर जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। जस्टिस काटजू का कहना है कि वह अदालत में पेश होने के तैयार है लेकिन वह चाहते हैं कि शीर्ष अदालत संविधान की धारा अनुच्छेद 124(7) पर विचार करे जो उन्हें अदालत के समक्ष पेश होने से रोकती है।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘मुझे अदालत के समक्ष पेश होने और इस मामले पर खुली अदालत में बहस करने पर खुशी होगी लेकिन चाहता हूं न्यायाधीश इस बात पर विचार करें। सुप्रीम कोर्ट का पूर्व जज होने के नाते मैं अनुच्छेद 124 (7) के तहत अदालत के समक्ष उपस्थित नहीं हो सकता। ’ नियमों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश सुप्रीम कोर्ट सहित किसी भी अदालत में वकालत नहीं कर सकते।

दो दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस काटजू को नोटिस जारी कर पूछा था कि सौम्या दुष्कर्म और हत्या मामले में अदालत के फैसले में क्या कमी है। अदालत ने उन्हें कहा था कि वे स्वयं आकर उन्हें बताएं कि फैसले में ऐसी क्या खामी है कि अदालत उस पर पुनर्विचार करे। कोर्ट ने उन्हें 11 नवंबर को सुनवाई में भाग लेने का आग्रह किया था।

सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पेश होने के लिए तैयार लेकिन क्या ऐसा कर सकता हूं: काटजू

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-