vyapam1-1478279023

भोपाल। व्यापमं घोटाले की जांच कर रही सीबीआई ने शुक्रवार को चिरायु मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर अजय गोयनका, बिसनखेड़ी स्थित चिरायु मेडिकल कॉलेज के एडमिनिस्ट्रेटिव अधिकारी के घर व दफ्तर सहित संस्थान से जुड़ी पांच जगहों पर सर्चिंग की कार्रवाई की। सीबीआई की 15 सदस्यीय टीम दोपहर एक साथ अलग-अलग जगहों पर पहुंची।

टीम ने एडमिनिस्ट्रेशन ब्लॉक में पूछताछ शुरू की। छापे की खबर फैलते ही कॉलेज में हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि सीबीआई ने पीएमटी परीक्षा में सरकारी सीट को मैनेजमेंट कोटे में बेचे जाने के आरोप की प्राथमिक जांच के बाद ये कार्रवाई की।

सीबीआई की टीम देर शाम तक यहां सरकारी और मैनेजमेंट कोटे की सीटों पर भर्ती किए गए छात्रों के दस्तावेजों की पड़ताल करती रही। सीबीआई की यह कार्रवाई झांसी रोड ग्वालियर थाने में दर्ज एफआईआई के चलते की गई है।

सर्चिंग के दौरान सीबीआई को दस्तावेजों के अलावा नकदी, आभूषण और अन्य मूल्यवान संपत्ति भी मिली जिसकी अनुमानित कीमत करीब दो करोड़ रुपए बताई जा रही है। जानकारी के अनुसार पीएमटी वर्ष 2010 में पास हुआ विद्यार्थी जो ग्वालियर के एक मेडिकल कॉलेज में पढ़ रहा था, वह पीएमटी 2011 में भी बैठा और सरकारी कोटे पर उसे भोपाल के एक कॉलेज में दाखिला भी मिला। लेकिन बाद में पैसों के लेन-देन के चलते सीट छोड़ दी गई। रिक्त सीट पर नियमानुसार मैरिट लिस्ट के हिसाब से दूसरे विद्यार्थी को दाखिला देना था, लेकिन कॉलेज ने मैनेजमेंट कोटे के जरिए मोटी रकम लेकर किसी अन्य का दाखिला करवा दिया।

सीबीआई सूत्रों की मानें तो इस साल 1 मई को कानपुर के काकादेव इलाके से गिरफ्तार किए गए स्कोरर रमेशचंद्र शिवहरे ने सीबीआई की पूछताछ में कई खुलासे किए। उसने बताया कि चिरायु मेडिकल कॉलेज में भी सरकारी सीट पर दाखिला करवा कर एनवक्त में छोड़ी गई, जिससे कॉलेज वह सीट मैनेजमेंट कोटे में बेच सके। वो कानपुर में कोचिंग सेंटर चलाता था और यहीं से होनहार छात्रों की तलाश कर उन्हें पैसों का लालच देकर अलग-अलग परीक्षाओं में बैठने के लिए तैयार करता था।

सीबीआई की व्यापमं घोटाले में चिरायु मेडिकल कॉलेज सहित पांच ठिकानों पर सर्चिंग

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-