images

नई दिल्‍ली। देश में जारी कैश के लिए मारामारी का समाधान करने के लिए केंद्र सरकार ने रविवार रात महत्‍वपूर्ण बैठक करते हुए कई निर्णय लिए हैं। पीएम मोदी की अध्‍यक्षता में हुई इस बैठक में नगद निकासी की सीमा 2000 से 2500 तक करने के साथ ही पेट्रोल पंप, मेडिकल और अन्‍य चिन्हित स्‍थानों पर 500 और 1000 के पुराने नोट चलाने की तारीख भी बढ़ाकर 24 नवंबर कर दी गई है।

इस सब के अलावा सरकार ने देश के दो लाख से ज्‍यादा एटीएम्‍स को जल्‍द अपग्रेड कर कैश डिस्‍पेच बेहतर करने के अलावा माइक्रो एटीएम शुरू करने की बात कही है। सोमवार को वित्‍त सचिव शक्तिकांत दास ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करते हुए इन फैसलों की जानकारी देते हुए कहा‍ कि ग्रामीण इलाकों जहां एटीएम सुविधा नहीं है वहां सरकार जल्‍द माइक्रो एटीएम पहुंचाएगी ताकि लोगों की परेशानी कम हो सके।

दास के अनुसार कैश की कोई कमी नहीं है लेकिन लोगों तक पहुंचाने के लिए चैनल्‍स की कमी है। सरकार एटीएम मशीनों को नए नोट के हिसाब से अपग्रेड कर रही है और इसके लिए टास्‍क फोर्स बनाई गई है जो यह काम तेजी से करेगी। भारत में माइक्रो एटीएम उन मशीनों को कहा जाता है जो बैंकों या होटलों में स्‍वाइप कार्ड मशीन की तरह होती हैं। इन मशीनों में यूजर को कार्ड स्‍वाइप कर एटीएम की तरह पिन नंबर डालना होता है। लोगों को पैसे देने और उनके पैसे जमा करने के लिए बैंक मित्र मौजूद होते हैं जो उन्‍हें पैसे देते हैं।

इसके अलावा माइक्रो एटीएम वो भी होते हैं जो छोटे आकार की एटीएम की तरह नजर आने वाली मशीन होती है। इन मशीनों को वैन या अन्‍य छोटे वाहन में रखकर कहीं भी ले जाया जा सकता है। यह वाहन उन जगहों पर जाएंगे जहां एटीएम नहीं है और लोग इनकी मदद से पैसे निकाल और जमा कर पाएंगे। फिलहाल यह सुविधा कम उपलब्‍ध है लेकिन जल्‍द इसे ग्रामीण इलकों में उपलब्‍ध करवाया जाएगा।

सरकार जल्द ला रही माइक्रो एटीएम

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-