लखनऊ मध्य विधानसभा सीट से सपा उम्मीदवार रविदास मेहरोत्रा के बाद कांग्रेस के मारुफ खान ने भी ताल ठोक दी है। मारुफ ने मंगलवार को अपनी उम्मीदवारी का पर्चा भरा जबकि रविदास ने सोमवार को पर्चा दाखिल किया था।

दोनों ही उम्मीदवार खुद को गठबंधन का अधिकृत प्रत्याशी बता रहे हैं। इसके चलते सपा-कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशी को लेकर असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है। इस पर दोनों दलों के नेता कुछ भी कहने से बच रहे हैं।

हालांकि चर्चा यह है कि मुलायम के बेहद करीबी माने जाने वाले रविदास का टिकट कट भी सकता है। वहीं, रविदास ने टिकट कटने की चर्चाओं को अफवाह बताया है।

उधर, कांग्रेस मीडिया विभाग के इंचार्ज सत्यदेव त्रिपाठी का कहना है कि प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने मंगलवार को सुबह मारूफ को प्रत्याशी बनाए जाने की जानकारी देते हुए नामांकन पत्र दाखिल कराने को कहा। इसके बाद उन्हें पार्टी की ओर से चुनाव चिह्न का अधिकार पत्र जारी किया।

महासचिव व प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद व प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने फोन कर पर्चा भरने को कहा था। सपा के वरिष्ठ नेता का कहना है कि इस सीट को लेकर दोनों पार्टियों में शीर्ष स्तर पर बातचीत चल रही है। बुधवार तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

मोहनलालगंज सीट भी कांग्रेस को समझौते में मिली है। यहां से कांग्रेस के दो उम्मीदवारों नरेश वाल्मीकि व हर्षवर्धन श्याम ने पर्चा भरा है। इस सीट पर भी नाम वापसी के बाद ही स्थिति साफ होने की संभावना है।

इस सीट से भी कांग्रेस के दो उम्मीदवारों नरेश वाल्मीकि व हर्षवर्धन श्याम ने पर्चा दाखिल किया है। इस सीट पर भी नाम वापसी के बाद ही स्थिति साफ होने की संभावना है। रविदास ने टिकट कटने की चर्चाओं को अफवाह करार देते हुए कहा कि वे हर हाल में चुनाव लड़ेंगे। पार्टी ने उन्हें चुनाव चिह्न का अधिकार पत्र जारी किया इसके बाद ही पर्चा भरा।

कांग्रेस के प्रदेश महासचिव मारूफ खान ने कहा कि प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद व प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के कहने पर पर्चा भरा है। गठबंधन का कौन अधिकृत प्रत्याशी है इसके बारे में अधिक जानकारी मेरे पास नहीं है।

 

सपा प्रत्याशी मंत्री रविदास व कांग्रेस प्रत्याशी आमने-सामने

| उत्तर प्रदेश, लखनऊ | 0 Comments
About The Author
-