कांग्रेस नेता और तिरुवनंतपुरम से सांसद शशि थरूर ने महाभारत और रामायण को स्कूली शिक्षा में शामिल करने की हिमायत की है ताकि आने वाली पीढ़ी अपने इतिहास को बेहतर तरह से समझ पाए। जयपुर साहित्य उत्सव में बोलते हुए शशि थरूर ने कहा कि भारतीय महाकाव्यों को शिक्षा का अंग बनाना चाहिए। रिमेम्बरिंग दी राजनाम के सेशन में बोलते हुए उन्होंने कहा कि, ” भारत के स्कूलों और कॉलिजों में शेक्सपीयर तो पढ़ाए जा रहे हैं लेकिन हम कालिदास को नहीं पढ़ा रहे।स्कूलों में भारतीय महाकाव्यों को पढ़ाने की मांग के साथ ही उन्होंने ग्रीग महाकाव्य इलिय़ड और ओदिसी को भी स्कूली शिक्षा में शामिल करने की बात कही। साथ ही उन्होंने कहा कि धर्मनिर्पेक्ष विचार के तहत सम्प्रदायवाद पर आधारित राजनीति थमनी चाहिए।

शेक्सपीयर के साथ कालिदास भी पढ़ाएं जाएं: शशि थरूर

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-