index

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व टीम डायरेक्टर का मानना है कि सीमित ओवरों की क्रिकेट में महेंद्र सिंह धोनी की जगह विराट कोहली को कमान सौंप देनी चाहिए। दिसंबर 2014 में ऑस्ट्रेलिया दौरे में धोनी के संन्यास के बाद टेस्ट टीम की कप्तानी तो कोहली पहले से ही संभाल रहे हैं।

एक निजी चैनल के लिए हुई बातचीत में शास्त्री ने कहा कि यह सही समय है कि जब राष्ट्रीय चयन समिति को कोहली को तीनों फारमेट में कप्तान बना देना चाहिए। साथ ही उनका यह भी मानना है कि एक खिलाड़ी के तौर पर धोनी उपयोगी हैं और उम्मीद जताई कि वह कोहली की कप्तानी में भी खेलना जारी रखेंगे।

शास्त्री के अनुसार हमें पिछले तीन सालों के प्रदर्शन को देखना चाहिए। हम विश्व कप में बड़ी सफलताएं हासिल नहीं कर सके। हमें चिंतन करना चाहिए। धोनी अभी भी एक खिलाड़ी के तौर पर खेल सकते हैं और मेरी नजर में यह समय है कि जब धोनी को खेल का ज्यादा लुत्फ उठाना चाहिए। फिर यह भी देखना चाहिए कि आपके पास एक खिलाड़ी और भी है जो पिछले कई सालों से कप्तान के रूप में पल्लिवत हो रहा है।

टेस्ट से संन्यास लेने से भी धोनी को कैरियर में खास मदद नहीं मिली है। धोनी के नेतृत्व में बांग्लादेश, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार मिली। इससे पहले भारत पचास ओवरों के विश्व कप में अपना खिताब बचाने में असफल रही। टीम सेमीफाइनल तक पहुंची लेकिन मेजबान और बाद में चैंपियन बनी ऑस्ट्रेलिया से हार गई।

हालांकि इस दौरान कप्तान के रूप में धोनी ने टी-20 में ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में जीत हासिल करने के अलावा एशिया कप भी जीता लेकिन अपनी मेजबानी में हुए टी-20 विश्व कप में धोनी एक बल्लेबाज और कप्तान के तौर पर विफल रहे। टी-20 विश्व कप में यह कोहली की बल्लेबाजी थी जिसके दम पर भारतीय टीम सेमीफाइनल तक पहुंची लेकिन वेस्टइंडीज से पराजित हो गई।

यही नहीं आईपीएल-9 में भी राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स के कप्तान के तौर पर धोनी प्रभाव नहीं छोड़ सके और टीम निचले सातवें पायदान पर रही। जबकि विराट कोहली ने आईपीएल-9 में 973 रन बनाए जिसमें रिकॉर्ड चार शतक शामिल थे। 27 साल के विराट की अगुआई में रॉयल चैलेंजर्स बंगलोर की टीम उपविजेता बनी।

शास्त्री बोले, धोनी को कप्तानी से करो आउट, कोहली को इन

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-