शशिकला का तमिलनाडु का मुख्‍यमंत्री बनने का सपना टूट गया है। सुप्रीम कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में शशिकला को दोषी करार दिया है। न्यायमूर्ति पी सी घोष और न्यायमूर्ति अमिताभ रॉय की पीठ ने यह फैसला सुनाया। शशिकला को चार साल की सजा और 10 करोड़ रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। इस सजा के चलते वह 10 साल तक चुनाव नहीं लड़ पाएंगी। कानून है कि सजा पाया व्‍यक्ति सजा की अवधि के बाद 6 साल तक चुनाव नहीं लड़ सकता है। शशिकला के दो साथियों को भी सजा सुनाई गई है।

17 दिसंबर 2014 को निचली अदालत ने जयललिता सहित शशिकला को चार साल की सजा सुनाई थी। सुप्रीम कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के फैसले का बरकरार रखते हुए कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले को पलट दिया। शशिकला पर 66 करोड़ रुपये की आय से अधिक संपत्ति का मामला था। यह मामला 20साल से भी पुराना है। इस मामले में भी जयललिता भी आरोपी थीं।  हालांकि उच्चतम न्यायालय ने जे जयललिता के पांच दिसंबर को हुए निधन को ध्यान में रखते हुए उनके खिलाफ दायर अपीलों पर कार्यवाही खत्म की। ट्रायल कोर्ट के आदेश के बाद शशिकला 27 दिन तक जेल में रही थीं।

शशिकला को दोषी करार दिए जाने के बाद अब ओपी पन्‍नीरसेल्‍वम का रास्‍ता साफ हो गया है। गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से तमिलनाडु में सीएम पद की दावेदारी के चलते राजनीतिक संकट गहराया हुआ है। शशिकला मुख्‍यमंत्री पद की दावेदारी कर रही थीं। इस संबंध में उन्‍होंने पन्‍नीरसेल्‍वम से इस्‍तीफा भी ले लिया था। हालांकि बाद में पन्‍नीरसेल्‍वम ने कहा था कि उन पर इस्‍तीफा देने का दबाव डाला गया। शशिकला तमिलनाडु की पूर्व मुख्‍यमंत्री और दिवंगत नेता के जयललिता करीबी थीं। वह जया के साथ ही उनके बंगले में रहती थीं।

शशिकला दोषी करार, टूटा तमिलनाडु का सीएम बनने का सपना

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-