दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की बेटी को मोहल्ला क्लीनिक में सलाहकार पद से इस्‍तीफा दे दिया है। इसकी पुष्टि खुद सत्‍येंद्र जैन ने की है। उन्‍होंने कहा कि उनकी बेटी स्वैच्छिक तौर पर काम कर रही थी और इसके लिए सरकार से कोई भुगतान नहीं किया जा रहा था लेकिन विवाद के चलते उसने इस्‍तीफा दे दिया।

दअरअसल जैन की बेटी के सलाहकार बनने पर विवाद खड़ा हो गया था। भाजपा और कांग्रेस ने केजरीवाल सरकार पर परिवारवाद का आरोप लगाया था।

अपने आरोपों में भाजपा ने कहा था कि मोहल्ला क्लीनिक सरकार की विवादित योजना है और अब जिस तरह से स्वास्थ्य मंत्री की पुत्री को योजना का कार्यान्वयन सलाहकार बना दिया गया है उससे सरकार की नीयत का पता चलता है।

दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने एक बयान में कहा था कि केजरीवाल सरकार की नियुक्तियों में चल रहा भाई-भतीजावाद और प्रशासनिक भ्रष्टाचार अब अपने चरम पर पहुंच रहा है। मुख्यमंत्री ने अपने लोगों के एनजीओ और पार्टी के कार्यकर्ताओं को दिल्ली सरकार में तैनात किया है।

कार्यकर्ताओं के घरों को किराये पर लेकर मोहल्ला क्लीनिक खोलकर उन्हें आर्थिक लाभ पहुंचाया जा रहा है। उपाध्याय ने कहा कि किसी मंत्री की पुत्री का उसी के विभाग में सलाहकार नियुक्त किया जाना प्रशासकीय व्यवस्थाओं के अंतर्गत भी एक अनियमितता है।

दिल्ली सरकार को मंत्री की पुत्री की नियुक्ति और दिए जा रहे मानदेय को लेकर एक सार्वजनिक बयान जारी करना चाहिए। सरकार को यह भी बताना चाहिए कि इस पद पर नियुक्ति के लिए कोई सार्वजनिक नोटिस जारी किया गया था या नहीं।

केजरीवाल सरकार ने ऐसी अनेक नियुक्तियां की हैं जिनमें न तो किसी भी नियम का पालन किया गया और न कोई सार्वजनिक सूचना जारी की गई। ऐसा ही एक प्रमुख मामला शिक्षा विभाग में नियुक्त आतिशी मर्लिना का है। इन सब की जांच आवश्यक है।

विवाद के बाद सत्‍येंद्र जैन की बेटी ने दिया इस्‍तीफा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-