समाजवादी पार्टी में छिड़े घमासान को लेकर कांग्रेस के बड़े नेता लगातार निशाना साधते रहे हैं, लेकिन कांग्रेस के बड़े नेताओं से ठीक उलट पार्टी के विधायक अखिलेश यादव के साथ खड़े नजर आ रहे हैं। कांग्रेस के विधायकों का मानना है कि यूपी सीएम अखिलेश यादव काफी चर्चित हस्ती बन चुके हैं जिसका लाभ उन्हें आगामी यूपी विधानसभा चुनाव में मिलेगा।

अधिकतर कांग्रेस विधायकों का मानना है कि, अखिलेश यादव की छवि जनता के बीच काफी साफ-सुथरी है, वह चर्चित हैं। सांप्रदायिक शक्तियों से लड़ने के लिए सेक्यूलर शक्तियों को एकजुट होना चाहिए।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, सोमवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में मनीष तिवारी ने सपा का 90 के दशक के सोप ओपेरा से तुलना कर मजाक उड़ाया था। उन्होंने कहा कि, पिछले पांच वर्षों से सपा में सत्ता संघर्ष चल रहा था जो अपने ‘चरमोत्कर्ष’ पर है। यह एक 1990 के दशक के सोप ओपेरा की तरह ही है।  उन्होंने कहा कि सपा से साथ गठबंधन पर तभी टिप्पणी की जा सकती है जब उस पार्टी में स्थिरता और संतुलन मौजूद हो।

हालांकि कांग्रेस के बड़े नेता सपा से गठबंधन को लेकर चाहें जो भी कहें लेकिन उसके 20 में से 16 विधायकों का कुछ अलग ही मत है। यहां तक की कांग्रेस के 10 विधायकों का सीधे तौर पर कहना है कि पार्टी को अखिलेश यादव के नेतृत्व से गठबंधन कर लेना चाहिए।

विधायक चाहते हैं अखिलेश यादव के साथ गठबंधन

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-