विदेशी दौरे के समय लगातार भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाने के लिए शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी आलोचना की है। पार्टी ने कहा है कि प्रधानमंत्री को विदेशी धरती से भारत को बदनाम करना बंद कर देना चाहिए।

शिवसेना के मुखपत्र सामना में बुधवार को प्रकाशित संपादकीय में कहा गया है कि दोहा में मोदी ने सार्वजनिक रूप से कहा कि भारत भ्रष्टाचार में डूबा हुआ था। इसके बाद उन्होंने भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए उठाए गए उपायों के बारे में बताया। कार्यक्रम में बैठे लोग ताली बजाते रहे और उनकी जय-जयकार करते रहे। यह और कुछ नहीं है। विदेश में भारत की साफ-सुथरी छवि को खराब करना है।

शिवसेना ने इसके आगे पूछा है कि भाजपा द्वारा देश की सत्ता संभालने के दो साल बाद भी यदि लोग भ्रष्टाचार की बात कर रहे हैं, तो इसके लिए जवाबदेह कौन है? भाजपा शासित गुजरात, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में भ्रष्टाचार एक मुद्दा है। क्या इसके लिए भी गांधी परिवार को ही जिम्मेदार बताया जाएगा?

उल्लेखनीय है कि इसी रविवार को अपनी दोहा यात्रा के दौरान भारतीयों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा था कि भ्रष्टाचार रोककर उनकी सरकार ने सालाना 36 हजार करोड़ रुपये बचाए हैं।

 

विदेश में भारत को बदनाम करना बंद करें मोदी : शिवसेना

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-