mumbai-whats-app-parents 2016824 11117 24 08 2016

व्हाट्सएप पर वायरल एक प्यारी सी बच्ची की तस्वीर ने मुंबई पुलिस का ध्यान भी अपनी ओर आकर्षित कर लिया। तस्वीर में हाजी अली के पास फुटपाथ पर किसी व्यक्ति के बगल में आरती बैठी थी। झुग्‍गी निवासी के उसके माता-पिता होने पर संदेह हो रहा था।

सोशल मीडिया के पावर के आगे मुंबई पुलिस को झुकना पड़ा और डिप्‍टी कमिश्‍नर उस जगह पर पहुंचे। उनकी टीम ने बाद में बंसी मारवारी को धर दबोचा, जो उस बच्ची के पिता होने का दावा कर रहा था।

 मां-बाप से अलग दिखती है बच्ची

लेकिन सच्चाई यही है कि घुंघराले बालों और भूरे आंखों वाली यह प्‍यारी सी बच्‍ची वास्‍तव में बंसी की ही बेटी आरती है। हाजी अली के पास स्‍टाल पर दिहाड़ी मजदूरी करने वाले बंसी ने कहा, ‘वह यहां रह रहे लोगों से अलग दिखती है और इसलिए हम पर हमेशा संदेह किया जाता है कि हम उसके असली मां-बाप हैं या नहीं।’

हालांकि, बंसी के इस दावे से पुलिस को संतुष्टि नहीं मिली और उसे गिरफ्तार कर स्थानीय पुलिस चौकी लाया गया। आरती का नामांकन टार्डियो म्युनिसिपल स्‍कूल में कराया गया है, इसलिए रिकार्ड चेक करने को वहां टीम भेजी गई। वहां के स्‍टाफ ने उसके जन्‍म प्रमाण पत्र को दिखाया और जेजे अस्‍पताल से भी यही सर्टिफिकेट मिला।

 

वायरल व्‍हाट्सएप मैसेज से बच्ची के पैरेंट्स ही बन गए उसके किडनैपर

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-