subramanian-swamy_650x400_61452343556

रायपुर। भाजपा के वरिष्ठ नेता व राज्य सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि नक्सलवाद का सफाया करने एकतरफा खुली कार्रवाई करनी चाहिए। बातचीत की कोई जरूरत नहीं है मानवाधिकार वादियों की परवाह नहीं करनी चाहिए। अफ्सपा (आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल सिक्यूरिटी एक्ट) लगाओ, आर्मी को खुली छूट दो। एक बार तत्कालीन प्रधानमंत्री चंद्रशेखर ने पूछा कि लिट्टे की समस्या क्यों है। मैंने कहा था-सरकारी संरक्षण। ऐसा यहां तो नहीं है।

सरकार नक्सलवाद को कुचलने पर सहमत है। बिना कोई चिंता किए सेना से कहो वह इलाका खाली कराए। यही सलाह मैंने लिट्टे के मामले में वहां की प्रधानमंत्री महिंद्रा राजपक्षे को भी दी थी। उन्होंने किसी की परवाह नहीं की और लिट्टे को समाप्त किया।

स्वामी रायपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के आयोजन में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यूपी में राम मंदिर को छोड़ा तो भाजपा की सरकार बन पाना मुश्किल है। 40 हजार मंदिर तोड़े गए पर हम सिर्फ अयोध्या, मथुरा और काशी ही मांग रहे हैं। कृष्ण ने कौरवों से 5 गांव मांगे थे, नहीं मिले। बाद में क्या हश्र हुआ हम सब जानते हैं। राम मंदिर पर अगली सुनवाई में हर दिन सुनवाई की मांग रखूंगा ताकि 2 महीने में मामला खत्म हो और 6 महीने में मंदिर तैयार हो जाए।

 

 

‘लिट्टे की तर्ज पर करें नक्सलियों का सफाया:सुब्रमण्यम स्वामी

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-