NEW DELHI , INDIA -  MAY 11:  RJD Chief Lalu Prasad Yadav leaves after attending the on-going budget session at parliament House on May 11, 2012  in New Delhi, India. The parliament was adjourned after members of BSP, SP, RJD, AIADMK, CPI and VCK protested against alleged objectionable cartoons printed in NCERT textbooks for XI standard. (Photo by Sonu Mehta/Hindustan Times via Getty Images)

बिहार में एक सनसनीखेज घटनाक्रम में चारा घोटाले से जुड़ी कई महत्वपूर्ण फाइनलें चोरी हो गई हैं। मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए फाइलों की तलाश शुरू कर दी हैं। चोरी हुई फाइलें बिहार पशु एवं मत्‍स्य संसाधन विभाग के पटना स्थित कार्यालय में रखी हुईं थी। चारा घोटाले में पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू यादव मुख्य आरोपी हैं। मामले में उन्हें छह साल की सजा की घोषणा भी हो चुकी है।

जानकारी के अनुसार पटना के ओल्ड सेक्रेटरिएट पुलिस स्टेशन में इस संबंध में मुकदमा दर्ज कराया गया। विभाग के सूत्रों के अनुसार पटना सचिवालय स्थित कार्यालय से तीन अलमारियों में रखी महत्वपूर्ण फाइलें चोरी हो गई हैं। इनमें से अधिकतर चारा घोटाले और उसमें आरोपी बनाए गए लोगों के संबंध में थी।

बताया जा रहा है कि इनमें पशु डॉक्टरों और कर्मियों की संलिप्तता के सबूत थे। हालांकि इस संबंध में 16 मई को मुकदमा दर्ज कराया जा चुका है। लेकिन मामले का खुलासा अभी हुआ है।

बता दें कि चारा घोटाला उस समय सुर्खियों में आया था जब तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू यादव का नाम इसमें शामिल पाया गया था। मामले में सीबीआई ने जांच शुरू करते हुए लालू यादव के साथ ही एक और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र सहित दर्जनभर लोगों को आरोपी बनाते हुए जांच शुरू कर दी थी।

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को चार साल कैद और दो लाख रुपये जुर्माने की सजा मिली थी। हालांकि बाद में उन्हें सुप्रीम कोर्ट से से राहत मिल गई थी। लेकिन इसके चलते उन्हें लोकसभा सदस्यता गंवानी पड़ी और वो चुनाव लड़ने के लिए भी अयोग्य साबित हो गए थे।

वहीं फाइलों की इस चोरी के बीच महत्वपूर्ण बात ये है कि चारा घोटाले के एक अन्य मामले में लालू यादव को रांची स्थित सीबीआई की विशेष अदालत ने 13 जून को तलब किया है। जिसमें उन्हें कोर्ट के सामने पेश होना होगा। उससे पहले ही फाइलों के चोरी होने की खबर सामने आ गई। हालांकि अभी यह नहीं पता चल सका है कि जो फाइलें चोरी हुई हैं वो कौन से मामले की हैं।

बता दें कि साल 1995 में बिहार में सीएजी की रिपोर्ट के बाद कुल 950 करोड़ रुपये का चारा घोटाला सामने आया था। जिसमें राज्य के अलग अलग जिलों के कोषागार से अवैध रूप से बड़ी मात्रा में धन निकाला गया था।

 

लालू की पेशी से पहले ही चारा घोटाले से जुड़ी महत्वपूर्ण फाइलें चोरी

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-