mathura_1464984593

रामवृक्ष के सुरक्षा कमांडर वीरेश यादव की ओर से किए गए खुलासे ने सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है। वीरेश ने पुलिस को बताया है कि कब्जाधारियों में से कुछ लोगों का गुट, जिसे रामवृक्ष ‘पागल सेना’ कहता था, इनमें से कुछ तो हमेशा हथगोले, बम लेकर घूमते थे।

कहा तो यहां तक जाता है कि कुछ ऐसे भी थे जो इन बमों की माला बनाकर गले में डाल लेते। ये लोग काफी हिंसक थे। अब पुलिस को इन लोगों के अन्य जगहों पर वारदात करने की आशंका है। ऐसे में प्रदेश भर में इन लोगों की तलाश कराई जाएगी।

रामवृक्ष ने इस पागल सेना में उन 50 लोगों को शामिल किया था, जो उसके एक इशारे पर अपनी जान दे दें और किसी की जान ले लें। इनमें महिलाएं भी बताई जा रही हैं। इनमें बिहार, मध्यप्रदेश, झारखंड और उत्तर प्रदेश के जनपदों के भी लोग हैं। अगर वीरेश की मानें तो इन सभी को ट्रेनिंग दी जाती थी। चलते फिरते बम बन गए थे यह लोग।

लेकिन इन लोगों को तलाशना पुलिस के लिए सबसे बड़ा सिरदर्द होगा। क्योंकि वीरेश भी इनके बारे में कोई ऐसी अहम जानकारी नहीं दे सका है, जिससे इन्हें गिरफ्तार करने में मदद मिले। पुलिस अधिकारियों का मानना है कि रामवृक्ष के बेटे की गिरफ्तारी से इस पूरे नेटवर्क का खुलासा हो सकता है।

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि वीरेश से जो भी जानकारियां मिली हैं उनके आधार पर जांच की जा रही है। जिन लोगों के नाम बताएं हैं उनसे पूछताछ की जाएगी।

अभी तक पुलिस मान रही थी कि गुड़िया रामवृक्ष की बेटी है। क्योंकि रामवृक्ष के शव की मांग भी अधिवक्ता के माध्यम से उसने ही की थी। अब वीरेश ने बताया कि गुड़िया रामवृक्ष की मूंहबोली बेटी है। वह मध्यप्रदेश की रहने वाली है। अब पुलिस गुड़िया की तलाश में है। हो सकता है कि वह इस नेटवर्क से जुड़े कुछ और राज खोल दे। पुलिस अफसरों का कहना है कि वीरेश यादव को रिमांड पर लेकर अभी और पूछताछ की जाएगी।

पुलिस का रिहर्सल देख तैयारियां कर रहा था रामवृक्ष भी
पुलिस जवाहर बाग को खाली कराने के लिए रिहर्सल कर रही थी। उसी के अनुसार रामवृक्ष भी मुकाबले की तैयारियां कर रहा था। जवाहर बाग में जो चौकियां बनाई गई थीं वहां लोगों की संख्या बढ़ा दी गई थी। गोला-बारूद जुटाया जा रहा था। असलहे इकट्ठे हो रहे थे। चंदन बोस ने असलहे इकट्ठे किए थे। जिन कब्जाधारियों के पास लाइसेंसी असलहे थे, वह भी अपने असलहे गृह जनपदों से ले आए थे।

 

रामवृक्ष को लेकर बेहद खतरनाक खुलासा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-