????????????????????????????????????

कहानीकार सलीम खान को राज्यसभा भेजे जाने की अटकलों के बीच खुलासा हुआ है कि मोदी सरकार ने इसके लिए उनसे संपर्क ही नहीं किया। सलीम साहब ने माना कि राज्यसभा जाना उनके लिए इज्जत की बात है, लेकिन सरकार ने संपर्क नहीं किया, इसलिए इनकार करने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

दरअसल, मोदी सरकार ने शुक्रवार को संसद के उच्च सदन यानी राज्यसभा के विभिन्न क्षेत्रों की छह हस्तियों को मनोनीत किया। पहले खबर थी कि इनमें सलमान खान के पिता सलीम भी शामिल हैं। वहीं शनिवार सुबह कुछ चैनलों ने खबर चलाई कि सरकार ने तीन दिन पहले सलीम साहब से संपर्क साधा, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया।

सलीम खान ने बताया, राज्यसभा जाना बड़ी बात है। वहां जाने और नहीं जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता, जब आपको बुलाया ही नहीं गया हो। मुझे आधिकारिक रूप से न कोई फोन आया, न कोई मिलने आया। संभावितों में भले ही नाम होगा, लेकिन सरकार ने मुझसे संपर्क नहीं किया।

80 वर्षीय सलीम खान प्रधानमंत्री मोदी के करीबी बताए जाते हैं। कई मौकों पर खान परिवार मोदी सरकार का समर्थन कर चुका है। यहां तक कि गुजरात दंगो से लेकर पुरस्कार वापसी तक सलीम खान ने मोदी का समर्थन किया है। फिलहाल भाजपा की ओर से भी कोई टिप्पणी नहीं आई है।

जिन लोगों का राज्यसभा के लिए मनोनयन किया गया है, उनमें भाजपा नेता सुब्रह्माण्यम स्वामी और नवजोत सिंह सिद्धू प्रमुख हैं। लेकिन मनोनीत होने वालों की सूची में सबसे दिलचस्प नाम अर्थशास्त्री नरेंद्र जाधव का है।

राज्यसभा में दलीय स्थिति

कुल सीटें 245

  • राजग 76
  • (भाजपा 47)
  • नामांकित 12
  • संप्रग 75
  • (कांग्रेस 65)
  • सपा 15
  • जदयू 13
  • तृणमूल 12
  • अन्नाद्रमुक 12
  • बसपा 10
  • माकपा 08
  • बीजेडी 07
  • डीएमके 04
  • रिक्त 01

– See more at: http://naidunia.jagran.com/national-exclusive-salim-khan-denied-offer-regarding-rajyasabha-birth-724636#sthash.RzhZznDh.dpuf

राज्यसभा जाना इज्जत की बात, सरकार से नहीं मिला ऑफर

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-