बुलंदशहर में हुए गैंगरेप के मामले ने देशभर का ध्‍यान अपनी ओर खींचा है। उत्‍तर प्रदेश में जंगलराज बढ़ता जा रहा है और महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में यहां लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है। साल 2014 से 2015 के बीच रेप के मामलों में 161 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

उत्‍तर प्रदेश क्राइम रिकॉर्ड्स ब्‍यूरो के ताजे आंकड़े बताते हैं कि साल 2014 में जहां 3,467 रेप के मामले दर्ज किए गए थे, वहीं साल 2015 में इस तरह के 9075 मामले दर्ज हुए हैं। यही नहीं रेप की कोशिश के मामलों में भी 30 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

सबसे ज्‍यादा चिंता की बात यह है कि अधिकारियों का कहना है कि यह हिमशैल की नोंक है। यानी वास्‍तविक दुष्‍कर्म के आंकड़े इससे कहीं अधिक हो सकते हैं। यदि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्‍यूरो 2014 की रिपोर्ट्स से मिले राष्‍ट्रीय आंकड़ों की उत्‍तर प्रदेश के आंकड़ों से तुलना करें, तो पता चलेगा कि यूपी में अपराध का औसत देशभर के अपराध के औसत से अधिक है।

उत्‍तर प्रदेश में होने वाले अपराध देश के अपराध से औसतन दो गुना अधिक हैं। देश में जहां वर्ष 2010 से 2014 के बीच रेप के मामलों की संख्‍या 22,172 से बढ़कर 36 हजार 735 हो गई। वहीं यूपी में रेप के मामलों की संख्‍या में इसी दौरान 121 फीसद की बढ़ोतरी हुई। यानी इस दौरान रेप के मामलों की संख्‍या 1,563 से बढ़कर 3,467 हो गई।

यूपी में एक साल में बढ़े रेप के 161 फीसद मामले

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-