चुनावी साल यानी 2017 में गाजियाबाद में लोगों को मेट्रो के सफर का आनंद नहीं मिल पाएगा। नई डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के अनुसार केंद्र से मेट्रो परियोजना के लिए धन आवंटित करने से मना कर दिया है और प्रदेश सरकार के पास दो महीने से पड़ी फाइल आगे नहीं बढ़ पाई है।

इस वजह से दिसंबर 2016 में पूरा होने वाला मेट्रो प्रोजेक्ट अपने समय से बहुत पीछे छूट गया है और अब प्रदेश की नई सरकार में ही इस रूट की लाइनों पर मेट्रो की रफ्तार को पंख लग सकेंगे। नई डीपीआर के अनुसार दिल्ली-गाजियाबाद मेट्रो परियोजना का बजट 1770 करोड़ से बढ़कर 2200 करोड़ पहुंच गया है।

 

इस डीपीआर को देखने के बाद केंद्र ने फंड जारी करने पर रोक लगा दी है और पहले प्रदेश सरकार से इसकी स्वीकृत कराने की बात कही है। यहां से अधिकारियों ने वह फाइल लखनऊ पहुंचा दी है लेकिन पिछले दो महीने में फाइल आगे नहीं बढ़ी, जिसकी वजह से मेट्रो परियोजना का काम ट्रैक से उतर चुका है।

 

यूपी के इस जिले में मेट्रो का बजट 2200 करोड़ पहुंचा, केंद्र ने रोका फंड

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-