index

लखनऊ बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती की नजर में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ भारतीय जनता पार्टी की मिली भगत है। इस मामले में मायावती ने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक को भी कठघरे में खड़ा कर दिया है।

लखनऊ में आज जारी एक बयान में मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता इस समय समाजवादी पार्टी की सरकार से बहुत ज्यादा दुखी तथा परेशान है।

समाजवादी पार्टी के इस खराब शासन पर बसपा तो लगातार हमले बोल रही है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी का चुप रहना उसको कठघरे में खड़ा कर रहा है। मायावती ने कहा कि भाजपा की इस चुप्पी से साबित हो गया है कि उसकी प्रदेश के सत्ताधारी दल से मिलीभगत है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक की भूमिका भी संदेह के घेरे में है। मायावती ने कहा कि राज्यपाल राम नाईक का कहना है कि प्रदेश में कोई भी संवैधानिक संकट नहीं। सपा के मामले में भाजपा का बिल्कुल चुप रहना मिलीभगत उजागर कर रहा है।

मायावती ने अखिलेश यादव की रथयात्रा पर भी बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि सरकार का दावा है कि उन्होंने साढ़े चार वर्ष में बीस वर्ष का विकास का काम किया है, इसके बाद भी मुख्यमंत्री को रथयात्रा करके अपने विकास का काम को दिखाना पड़े तो साफ हो जाता है कि इनके दावे में कितनी हकीकत है। उन्होंने कहा कि घोषणापत्र लागू करना सपा सरकार का खोखला दावा है। सपा के बड़े नेताओं में आपसी युद्ध का तनाव सार्वजनिक हो गया है। अब प्रदेश की आम जनता भ्रमित न हो।

 

यूपी की जनता समाजवादी पार्टी की सरकार से बहुत ज्यादा दुखी है: मायावती

| उत्तर प्रदेश, लखनऊ | 0 Comments
About The Author
-