नई दिल्ली। जनरल बिपिन रावत ने कहा कि युद्ध के मोर्चे पर तैनाती की परिस्थितियां बिल्कुल अलग होती हैं। युद्ध के मोर्चे पर जवान कई दिन बिना शौचालय और आश्रय की सुविधा के कठिन हालात में रहते हैं। यह स्थिति महिलाओं के लिए सामान्य नहीं है। इसलिए अग्रिम मोर्चे पर तैनाती के मामले में महिला सैनिकों को भी अपने पुरुष सहकर्मियों के हालात का सामना करना पड़ेगा।

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने पाकिस्तान को संदेश दिया है कि उसने आतंकी घुसपैठ के जरिये जम्मू-कश्मीर में हिंसा फैलाना बंद नहीं किया, तो भारत आगे भी सर्जिकल स्ट्राइक करेगा। उन्होंने साफ कहा कि बेशक हम सरहद पर शांति चाहते हैं। लेकिन, सीमा पार से भी अमन का ऐसा ही पैगाम नहीं मिला, तो सेना जरूरत के हिसाब से सर्जिकल स्ट्राइक जैसी कार्रवाई करेगी।

जनरल रावत ने सेना प्रमुख के तौर पर सेना दिवस के सिलसिले में पहले प्रेस कांफ्रेंस के दौरान यह बात कही। सेना सर्द मौसम में भी बर्फ वाले इलाकों में घुसपैठ रोकने को मुस्तैद है। इसी वजह से गुरुवार को हमने दो आतंकियों को घुसपैठ की कोशिश में मार गिराया। जनरल रावत ने पाकिस्तान के नए सेना प्रमुख जनरल बाजवा के साथ संयुक्त राष्ट्र के सैन्य मिशन में काम करने की बातों को नकारते हुए कहा कि कभी साथ काम नहीं किया है।

युद्ध के मोर्चे पर तैनाती की परिस्थितियां बिल्कुल अलग होती हैं

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-