barun kashyap 13 10 2016

अगस्‍त में एक फिल्‍म एग्‍जीक्‍यूटिव बरुन कश्‍यप के साथ मुंबई में गोरक्षकों द्वारा दुर्व्‍यवहार का मामला सामने आया था। इसमें पी‍ड़‍ित ने आरोप लगाया था कि एक ऑटो र‍िक्‍शा ड्रायवर ने उसके चमड़े के बैग को देखकर यह कहते हुए दुर्व्‍यवहार किया कि वो बैग गाय के चमड़े से बना है।

अब इस मामले में अब एक बड़ा खुलासा हुआ है। एक अंग्रेजी अखबार के अनुसार आरोप लगाने वाले फिल्‍म एग्‍जीक्‍यूटि‍व ने पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में बताया है कि वो हिंदुओं से नफरत करता है और उसकी कहानी केवल सांप्रदायिक तनाव फैलाने के लिए थी। अखबार ने कश्‍यप के बयान की कॉपी के हवाले से लिखा है कि कश्‍यप ने झूठी कहानी गढ़ी थी।

इसमें कश्‍यप ने कहा है, मैं मानता हूं कि पूरे मामले में मैंने झूठ बोला था। मेरे साथ ऐसी कोई घटना नहीं हुई थी, मेरी फेसबुक पोस्‍ट भी झूठी थी। जब पुलिस ने पूछा कि उन्‍होंने ऐसा क्‍यों किया तो कश्‍यप ने कहा कि मैं हिंदुओं से नफरत करता हूं और इसलिए यह कदम उठाया।

पुलिस के अनुसार कश्‍यप का प्‍लान था कि वो गोरक्षकों को आरोपी बनाकर शहर और देश में सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ना चाहता था।

बता दें कि 19 अगस्‍ता को डीएन नगर पुलिस थाने में दर्ज कराई अपनी शिकायत में कश्‍यप ने कहा था कि वो सुबह 11 बजे एक ऑटो में सवार हुआ। इस दौरान ऑटो ड्रायवर ने कहा कि उसके चमड़े के बैग से बदबू आ रही है, क्‍या यह गाय के चमड़े से बना है।

कश्‍यप ने शिकायत में आगे कहा था कि लगातार यह बताने के बाद भी कि बैग ऊंट के चमड़े से बना है, ऑटो ड्रायवर ने एक जगह वाहन रोका और तीन लोगों के साथ लौटा। तीनों ने मिलकर उससे दुर्व्‍यवहार किया और कहा कि आज तो बच गए। असम के बरुन कश्‍यप ने इस पूरी घटना को फेसबुक पर भी पोस्‍ट किया था जिसके बाद काफी बवाल मचा था और सरकार पर कार्रवाई का दबाव बन गया था।

मुझे हिंदुओं से नफरत है, फैलाना चाहता था सांप्रदायिक तनाव: कश्‍यप

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-