malya

बैंकों से लाखों-करोड़ रुपए उधार लेकर विदेश में जा बैठे उद्योगपति विजय माल्या की परेशानी बढ़ती जा रही है। डिप्लोमेटिक पासपोर्ट रद्द होने के बाद शनिवार को होने वाली सुनवाई में इस पर बहस होगी कि उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया जाए या नहीं? प्रवर्तन निदेशालय (ED) स्पेशल कोर्ट के सामने यह मांग करेगा।

इससे पहले शुक्रवार को माल्या का डिप्लोमेटिक पासपोर्ट रद्द कर दिया गया था। दूसरी बार राज्यसभा सदस्य चुने गए विजय माल्या का मौजूदा कार्यकाल 2 जून को समाप्त हो रहा है। उन्हें दिल्ली रीजनल पासपोर्ट ऑफिस ने डिप्लोमेटिक पासपोर्ट जारी किया था। डिप्लोमेटिक पासपोर्ट रद्द होने के कारण माल्या भारत लौटने के लिए बाध्य होंगे।

पासपोर्ट अधिनियम के तहत यदि किसी व्यक्ति को डिप्लोमेटिक पासपोर्ट जारी किया जाता है तो उसे अंतरराष्ट्रीय यात्राओं से संबंधित नियमित दस्तावेज सरकार के पास जमा करना होते हैं। सरकार जैसे ही डिप्लोमेटिक पासपोर्ट वापस ले लेती है, ये जमा दस्तावेज भी निरस्त हो जाते हैं।

माल्या का पासपोर्ट वापस होने के साथ ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के पास भारत की किसी सक्षम अदालत के सामने उनके विरुद्ध गैर-जमानती वारंट जारी करने के लिए आवेदन कर सकेगा। साथ ईडी इंटरपोल को रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने तथा माल्या को दुनिया में कहीं भी पकड़ने के लिए कह सकेगा।

 

माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट पर सुनवाई आज

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-