rajbhavan_17_08_2016

मुंबई। महाराष्ट्र के राज्यपाल सी विद्यासागर राव ने मंगलवार को मालाबार हिल स्थित राजभवन परिसर में अंग्रेजों के समय के बंकर का निरीक्षण किया। 150 मीटर लंबे इस बंकर को कई दशक पहले बंद कर दिया गया था।

राजभवन के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस भी बंकर को देखने जा सकते हैं। इससे पहले राव ने पत्नी विनोदा के साथ बंकर को देखा। उन्होंने इसे सुरक्षित रखने के लिए विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों से परामर्श करने का इरादा जाहिर किया।

तीन महीने पहले कई बुजुर्ग कर्मचारियों ने राजभवन के अंदर एक सुरंग होने की बात कही थी। इसके बाद राज्यपाल ने बंकर खोलने के निर्देश दिए। गत 12 अगस्त को लोक निर्माण विभाग के कर्मचारियों ने राजभवन की एक अस्थायी दीवार तोड़ दी। इसी दीवार से बंकर को बंद किया गया था।

हालांकि सुरंग के स्थान पर विभिन्न आकार के 13 कमरों वाली एक पूरी बैरक मिली है। बंकर का मुहाना 20 फुट लंबा है। नीचे उतरने के लिए एक रैंप है। इसका रास्ता लंबा है और दोनों तरफ छोटे से मध्यम आकार के कमरे बने हैं। यह करीब 5,000 वर्गफीट में बना हुआ है। इसमें बम सेल, गन सेल, गोली सेल, सेल लिफ्ट, पंप और कार्यशाला आदि हैं।

महाराष्ट्र के राजभवन परिसर में अंग्रेजों के समय का बंकर

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-