हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद पाकिस्तान की तरफ से बनाए जा रहे कूटनीतिक दबाव का भारत जवाब देने की तैयारी कर ली है। विदेश मंत्रालय पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित को समन कर सकता है। भारत की तरफ से बासित को समन कर उन्हें हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के आतंकी गतिविधियों में संलिप्त होने के सबूत दिखा सकता है।

भारत की तरफ बासित को स्थानीय जनप्रतिनिधियों और सेना के जवानों की हत्या में बुरहान के हाथ होने का सबूत दिखाया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक जम्मू-कश्मीर पुलिस गृह मंत्रालय को बुरहान के खिलाफ पेंडिंग 12 एफआईआर की जानकारी पहले ही दे चुकी है। गृह मंत्रालय की ओर से इसे विदेश मंत्रालय को दिया जाएगा ताकि बासित को बतौर सबूत दिखाया जा सके।

पुलिस के हथियारों को छीनने, फायरिंग व बुरी तरह से जख्‍मी करने, सरपंच और पंच समेत उनके परिजनों की हत्‍या व त्राल में राष्‍ट्रीय राइफल्‍स पैट्रोल पर हमला आदि मामलों में वानी वांटेड था। इंटेलिजेंस ऑफिसर ने कहा इन फिजिकल आतंकी कारनामों से यह बात साबित होता है कि वह केवल ‘ऑनलाइन जिहादी’ नहीं था।

 

भारत में पाक उच्चायुक्त को दिए जा सकते हैं बुरहान के अातंकी होने का सबूत

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-