मुम्बई महानगरपालिका में भाजपा के साथ लड़ाई में उलझी शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कटु संबंध वाले अपने इस सहयोगी के साथ चुनाव के बाद किसी गठजोड़ से इनकार किया है । उन्होंने दावा किया कि भाजपा को अपनी भूल समझ में आ गयी है और इसलिए वह शिवसेना से सुलह की आस में है। भाजपा पर प्रहार जारी रखते हुए शिवसेना ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर रेनकोटसंबंधी टिप्पणी करने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाया। उसने आजादी के बाद देश को विकास के मार्ग ले जाने को लेकर कांग्रेस की जमकर प्रशंसा भी की।

ठाकरे ने पार्टी के मुखपत्र में एक साक्षात्कार में कहा, ‘(भाजपा अध्यक्ष) अमित शाह कहते हैं कि (बीएमसी चुनाव में) यह दोस्ताना मैच है। उसका बस यह मतलब है कि भाजपा को अपनी गलती का अहसास हो गया है। वह समझ गयी है कि उसने गलत कदम उठा लिया है और उसके लिए मुम्बईवासियों के गुस्से से लड़ना मुश्किल है। इस तरह वह अब हमारे पास वापस आने का प्रयास कर रही है।शाह ने रविवार को कहा था कि शिवसेना के साथ कोई मतभेद नहीं है। उन्होंने उम्मीद जतायी थी कि महाराष्ट्र नगर निकाय चुनाव स्वतंत्र रूप से लड़ने के पार्टी के फैसले से गठबंधन को कोई नुकसान नहीं पहुंचने जा रहा है।

उद्धव ने कहा, ‘लेकिन मैं क्यों अब उससे (भाजपा से) समझौता करूं। जब एक बार मैंने उसके दिमाग के बुरे विचार देख लिए हैं तो मैं क्यों उससे गले लगूं। कोई समझौता कभी नहीं होगा। यह संभव नहीं है। मैं अब दृढ़ हूं। यदि मैं दृढ़ नहीं होता तो मैंने यह घोषणा नहीं की होती कि मैं भविष्य में अपनी पार्टी के लिए नया रास्ता ढूंढ़ रहा हूं।जब उनसे पूछा गया कि क्या वह महाराष्ट्र में भाजपा से समर्थन वापस लेंगे तो उन्होंने कहा, ‘मुझे उसके बारे में सोचना पड़ेगा, यदि वह अनैतिक तरीके से राज्य को बांटने के बारे में सोच रही है तो मुझे उसका समर्थन करने के बारे में गंभीरता से सोचना पड़ेगा।

शिवसेना बृहन्मुम्बई महानगरपालिका (बीएमसी) का चुनाव अपने बलबूते पर ही लड़ रही है और वह भाजपा को अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में निशाना बना रही है, जबकि यह बहुकोणीय मुकाबला है। इस चुनाव में कांग्रेस और राकांपा भी मैदान में है। बीएमसी चुनाव 21 फरवरी को है। भाजपा को और चिढ़ाते हुए सामना के एक संपादकीय में केंद्र में कांग्रेस सरकारों द्वारा किये गये विकास कार्यों की प्रशंसा की गयी है। संपादकीय में यह कहते हुए मोदी पर निशाना साधा गया है कि वह नोटबंदी से फैली अराजकतामानने को तैयार नहीं हैं।

भाजपा को भूल का अहसास हो गया है, लेकिन मुम्बई में चुनाव बाद नहीं होगा गठबंधन: उद्धव ठाकरे

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-