पटना । भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी ही पार्टी पर तंज कसते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए भाजपा की ओर से जिन 40 लोगों को स्टार प्रचारक के रूप में उतारा गया है उस सूची में उनका नाम नहीं होना दुखद है।

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि ”मैं हैरान हो गया था, जब मैंने यूपी में हो रहे चुनाव के लिए अपना नाम कैम्पेनर्स की लिस्ट में नहीं देखा, लेकिन ये पार्टी के अच्छे के लिए होगा। मैं भी पार्टी की भलाई ही चाहता हूं।”

गौरतलब है कि बॉलीवुड का चेहरा होने के चलते शत्रुघ्न स‍िन्हा अब तक भाजपा के बड़े स्टार कैम्पेनर्स में से एक रहे हैं। बता दें कि भाजपा ने अब तक ज‍ितने स्टार प्रचारकों की सूची यूपी चुनाव में कैम्पेन के ल‍िए जारी की है, उसमें व‍िनय कटियार, योगी आदित्यनाथ, वरुण गांधी, स्मृत‍ि ईरानी जैसे नेता शामिल हैं।

बुधवार को पटना पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि वो उत्तर प्रदेश चुनाव में अपना योगदान नहीं दे पाने से काफी आहत हैं। शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने आप को देश का सबसे बड़ा स्टार प्रचारक बताते हुए कहा कि बिहार चुनाव के वक्त भी उन्हें भाजपा ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट में नहीं रखा था और ना ही चुनाव में उनका इस्तेमाल किया था। चुनाव के बाद उसका नतीजा भाजपा की हार के रूप में सामने आया।

शत्रुघ्न ने कहा कि शायद बिहार की हार से भी भाजपा ने सबक नहीं दिया और उन्हें उत्तर प्रदेश चुनाव से भी दूर रखा है। भाजपा पर व्यंग्यात्मक कटाक्ष करने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश चुनाव में किसी प्रकार भाजपा की जीत हो जाती है तो पार्टी के लिए अच्छा होगा और उन्हें खुशी होगी।

25 जनवरी को भाजपा के राज्यसभा सांसद विनय कटियार ने प्रियंका गांधी को लेकर कॉन्ट्रोवर्शियल बयान दिया था। उन्होंने कहा था, “प्रियंका कोई कलाकार नहीं हैं, वो उतनी खूबसूरत भी नहीं हैं, जितना प्रचारित किया जाता है।”

“हमारी पार्टी में स्मृति ईरानी हैं, जो प्रियंका से ज्यादा भीड़ जुटा सकती हैं। हमारे पास कई स्टार प्रचारक हैं, जो प्रियंका से ज्यादा खूबसूरत हैं।” कटियार के बयान पर प्रियंका ने कहा था, “इससे महिलाओं को लेकर भाजपा की सोच बेनकाब हो गई है।”

नोटबंदी को लेकर पीएम मोदी के कराए गए सर्वे पर सिन्हा ने ट्वीट कर कहा था, ‘हवाई किले बनाना बंद करें, अपने स्वार्थ के लिए प्लांटेड स्टोरीज और सर्वे कराना ठीक नहीं है।’ एक और ट्वीट में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा था, ‘मुद्दे की गहराई में जाएं, गरीबों और वेल विशर्स, वोटर्स, सपोर्टर्स और महिलाओं की तकलीफ को समझें। ‘

अपने तीसरे ट्वीट में सिन्हा ने कहा था, ‘बुरे वक्त के लिए इकट्ठा की गई मांओं और बहनों की गाढ़ी कमाई की तुलना काले धन से नहीं की जानी चाहिए।’ हालांकि, बाद में सिन्हा ने इनमें से अपने 2 ट्वीट अपने ट्विटर हैंडल से हटा दिए थे। बता दें, मोदी ने नोटबंदी के फैसले पर लोगों से राय मांगी थी। उन्होंने अपने ऐप पर लोगों से एक सर्वे में हिस्सा लेने और रेटिंग के साथ 10 सवालों के जवाब देने को कहा था।

भाजपा के ‘शत्रु’ का फिर छलका दर्द

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-