bjp-logo_1457438446

भाजपा की बहुप्रतीक्षित प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा मंगलवार को हो गई। लगभग 415 सदस्यीय इस जंबो टीम में 41 पदाधिकारी बनाए गए हैं। पदाधिकारियों में पार्टी के बड़े नेताओं का आशीर्वाद के साथ परिवारवाद व नाते-रिश्तेदारों को तवज्जो की भी छाया दिखाई दे रही है।

साथ ही 2017 के चुनावी समीकरणों का प्रभाव भी हावी दिख रहा है। यही वजह है कि पार्टी के इतिहास में पहली बार 15 उपाध्यक्षों व 15 मंत्रियों के साथ आठ महामंत्री बनाए गए हैं। इसके अलावा कोषाध्यक्ष के साथ एक सह कोषाध्यक्ष का पद भी सृजित कर दिया गया है।  टीम में 60 फीसदी से ज्यादा चेहरे पहली बार प्रदेश पदाधिकारी बनाए गए हैं।

पुरानी टीम के 17 लोगों को नई टीम में जगह नहीं मिल पाई है। टीम में जातीय व क्षेत्रीय समीकरणों को भी संतुलित कर चुनावी बंदोबस्त करने की भी झलक दिखाई दे रही है। अलबत्ता प्रदेश पदाधिकारियों में महिलाओं का भागीदारी घटी है। पिछली बार 10 महिलाओं को प्रदेश पदाधिकारी बनाया गया था। इस बार सिर्फ पांच महिलाओं को ही पदाधिकारी बनने का मौका मिला है।

पिछली बार तीन महिलाओं की तुलना में इस बार सिर्फ एक महिला कांता कर्दम को ही उपाध्यक्ष बनने का मौका मिला है। कर्दम अभी तक प्रदेश मंत्री थी। अनुपमा जायसवाल इस बार भी महामंत्री पद पर बरकरार रही हैं।

प्रदेश मंत्रियों में पिछली बार छह महिलाएं थी। इस बार यह संख्या सिर्फ तीन ही है। चित्रकूट की रंजना उपाध्याय, औरैया की गीता शाक्य और संभल की मंजू दिलेर को प्रदेश मंत्री बनाया गया है। तीनों पहली बार प्रदेश पदाधिकारी बनाई गई है। राज्यसभा सदस्य शिवप्रताप शुक्ल, लालजी टंडन के पुत्र आशुतोष टंडन गोपाल, सांसद सतपाल सिंह व विहिप के पूर्व पदाधिकारी प्रकाश शर्मा को पूर्ववत उपाध्यक्ष बनाए रखा गया है।

राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के पुत्र सांसद राजवीर सिंह राजू भैया को वापस लेते हुए फिर प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के पुत्र पंकज सिंह प्रदेश महामंत्री पद पर बरकरार रखे गए हैं।

लंबे समय से प्रदेश प्रवक्ता की जिम्मेदारी उठा रहे विजय बहादुर पाठक को तरक्की देते हुए प्रदेश महामंत्री बनाया गया है। अभी तक प्रदेश मंत्री दयाशंकर सिंह को भी तरक्की मिली है। उन्हें प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया है।

भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी
प्रदेश उपाध्यक्ष

शिव प्रताप शुक्ला, सांसद (गोरखपुर), राजवीर ‘राजू’ भैया, सांसद (एटा), धर्मपाल सिंह, विधायक (बरेली), गोपाल टंडन विधायक (लखनऊ), सतपाल सिंह सांसद (बागपत), प्रकाश शर्मा (कानपुर), बाबूराम निषाद (हमीरपुर), कान्ता कर्दम (मेरठ), दयाशंकर सिंह (बलिया), जसवन्त सैनी (सहारनपुर), अश्वनी त्यागी (मेरठ), सुरेश राणा (शामली), रामनरेश रावत (बाराबंकी), राकेश त्रिवेदी (काशी), जेपीएस राठौड़ (शाहजहांपुर)।
प्रदेश महामंत्री
स्वतंत्र देव सिंह पटेल (जालौन), पंकज सिंह (लखनऊ), अनुपमा जायसवाल (बहराइच), सलिल विश्नोई (कानपुर), विद्यासागर सोनकर (जौनपुर), विजय बहादुर पाठक (लखनऊ), अशोक कटारिया (बिजनौर), सुनील बंसल (महामंत्री संगठन) (लखनऊ)।
प्रदेश कोषाध्यक्ष
राजेश अग्रवाल, एमएलए (बरेली)
प्रदेश सह कोषाध्यक्ष
नवीन जैन (आगरा)।
प्रदेश मंत्री
संतोष सिंह (लखनऊ), गोविंद शुक्ला (अमेठी), अनूप गुप्ता (लखीमपुर), रंजना उपाध्यक्ष (चित्रकूट), कौशलेंद्र सिंह पटेल (काशी), अमरपाल मौर्य, कामेश्वर सिंह (गोरखपुर), महेश श्रीवास्तव (काशी), सुरेश अवस्थी (कानपुर), देवेंद्र सिंह चौधरी (मेरठ), गीता शक्य (औरैया), धर्मवीर प्रजापति (आगरा), सुभाष यादव यदुवंशी

 

 

भाजपा की परिवारवाद से मुक्त नहीं है नई कार्यकारिणी

| उत्तर प्रदेश, लखनऊ | 0 Comments
About The Author
-