kim-jong_1457946828

अमेरिका ने मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप में पहली बार उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग-उन पर पाबंदी लगाई है। अमेरिकी वित्त मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक किम जोंग उन अपने देश में हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं। किम जोंग उम के अलावा उत्तर कोरिया के दस और अधिकारियों को भी ब्लैकलिस्ट किया गया है। हालांकि अमेरिका के इस बयान पर उत्तर कोरिया ने अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

किम जोंग उम और दस और अधिकारियों के खिलाफ की गई कार्रवाई का मतलब है कि अब अमेरिका में यदि इन लोगों की कोई व्यक्तिगत संपत्ति है तो जब्त कर ली जाएगी। वे किसी अमेरिकी नागरिक या संस्था के साथ व्यापार नहीं कर पाएंगे। वित्त मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है, “किम जोंग उन ने उत्तर कोरिया में अपने नागरिकों पर असहनीय क्रूरता की है और अत्याचार किए हैं। इसमें अन्यायपूर्ण हत्याएं, बेगार और यातना जैसे अपराध शामिल हैं।”

मंत्रालय ने उत्तर कोरिया में हो रही गतिविधियों पर एक रिपोर्ट जारी की थी। रिपोर्ट के मुताबिक़ उत्तर कोरिया की जेलों में 80 हज़ार से एक लाख 20 हज़ार तक कैदी हैं। इन कैदियों को रोज यातनाएं दी जाती हैं, उनका यौन उत्पीड़न होता है और फांसी तक दे दी जाती है।

 

‘ब्लैकलिस्ट’ हुए उत्तर कोरिया के किम जोंग उन

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-