ब्राजील की एक जेल में ड्रग माफियाओं के दो गैंग भिड़ गए। 60 लोगों की मौत हो गई। मारे गए लोगों में कई जेल अफसर भी हैं। एक अफसर के मुताबिक, मरने वालों का आंकड़ा बढ़ भी सकता है। क्योंकि अभी कई सेल की तलाशी पूरी नहीं हुई है। बता दें कि ब्राजील की जेलों को कई ह्यूमन राइट्स ग्रुप दुनिया की सबसे बदतरीन और ओवरलोडेड जेल बता चुके हैं। कैसे शुरू हुआ दंगा…
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दंगे की ये घटना रविवार शाम अमाजोनेस राज्य के मनाउस में हुई। ड्रग माफियाओं के दो गैंग्स के बीच टकराव शुरू हुआ।
– इसके बाद, जेल के अंदर ही छुपाकर रखे गए हथियारों का इस्तेमाल हुआ। कुछ खबरों में कहा गया है कि कैदियों की कई लाशें जेल की दीवार के ऊपर से बाहर फेंक दी गईं।
– अमाजोनस के सिक्युरिटी चीफ, सर्गियो फोंटेस ने कहा- इस बात में कोई दो राय नहीं कि मलने वालों की संख्या बढ़ सकती है। क्योंकि कई सेल की तलाशी तो अभी शुरू भी नहीं की जा सकी है।
– फोंटेस ने कहा- एडिश्नल फोर्स मौके पर भेजी गई लेकिन वो दंगाइयों को काबू करने में कामयाब नहीं हो पाई। इसके बाद स्पेशल ग्रुप ने हालात संभाले।

किन पर शक?
– लोकल मीडिया के मुताबिक, गैंगवार साउ पाउलो के फर्स्ट कैपिटल कमांड (पीसीसी) और लोकल क्रिमिनल्स के बीच ड्रग्स को लेकर हुई।
– पुलिस ने कहा कि दंगे के दौरान 72 कैदियों और कुछ पुलिसवालों को बंधक भी बना लिया था।
– कुछ खबरों के मुताबिक, घटना के बाद कई लाशें एक दूसरे के ऊपर पड़ी हुई देखी गईं। हालांकि, मीडिया को जेल के अंदर की तस्वीरें लेने से रोक दिया गया।

दुनिया की सबसे खराब जेलें ब्राजील में
– ब्राजील की तकरीबन सभी जेलों को दुनिया में सबसे खराब जेलों में गिना जाता है। यहां की हर जेल में कैपेसिटी के कई गुना कैदी रखे जाते हैं।
– इनमें से ज्यादातर ड्रग माफिया और ड्रग एडिक्ट होते हैं। यहां जेलों में भी दंगे होना कोई नई बात नहीं। यहां, इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं। 1992 में साउ पाउलो की जेल में दंगा हुआ था। इसमें 111 कैदी मारे गए थे।

ब्राजील की जेल में भिड़े ड्रग्स से जुड़े दो गैंग, जेल के अफसरों समेत 60 की मौत

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-