बेंगलुरू। बेंगलुरू की सेंट्रल जेल से शशिकला का परिचय साल 2014 में हो चुका है। उस वक्‍त तमिलनाडु की तत्‍कालीन मुख्‍यमंत्री जे. जयललिता के साथ उन्‍होंने 21 दिन की कैद काटी थी। बेंगलुरु की पारापन्ना अग्रहारा जेल शहर के 20 किलोमीटर दूर है, जहां इस बार भी शशिकला को रखा जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को आज बुधवार शाम 5:30 बजे के पहले बेंगलुरू की विशेष अदालत के सामने सरेंडर करना होगा।

गौरतलब है कि शशिकला सड़क मार्ग से बेंगलुरू के लिए रवाना हो चुकी हैं। दूसरी तरफ कर्नाटक के कानून मंत्री टीबी जयाचार्य का कहना है कि राज्‍य की ओर से मुकदमे को गंभीरता से लिया गया था और पूरी तैयारी के साथ सुप्रीम कोर्ट में केस दायर किया गया था।

जेल विभाग ने भी सेंट्रल जेल के आसपास की सुरक्षा व्‍यवस्‍था मुस्‍तैद कर दी है। राज्‍य सरकार को आशंका है कि शशिकला के पहुंचते ही उनके समर्थकों की भीड़ भी जेल परिसर तथा स्‍पेशल कोर्ट के आसपास एकत्रित हो जाएंगे।

2014 में अम्‍मा समर्थकों द्वारा किए गए हुड़दंग से सबक लेते हुए इस बार कर्नाटक राज्‍य सरकार कोई कोताही नहीं बरत रही है।

हालांकि शशिकला को जेल में विशेष ट्रीटमेंट दिया जाएगा या नहीं, इस बार राज्‍य सरकार चुप्‍पी साधे बैठी है। उल्‍लेखनीय है कि 2014 में जब जयललिता को इस जेल में रखा गया था, तब उन्‍हें वीवीआईपी सुविधाएं दी गई थीं।

मसलन उन्‍हें एक अलग सेल में रखा गया था, जहां उन्‍हें पंखा तथा तमिल, अंग्रेजी अखबार भी दिया जाता था।

इसी जेल में कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री तथा भाजपा नेता बीएस येदियुरप्‍पा, पूर्व मंत्री गली जर्नादन और कृष्‍णैया शेट्टी को भी रखा गया था।

बेंगलुरू की सेंट्रल जेल मे पहले भी सजा काट चुकी हैं शशिकला

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-