नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को बड़ा फैसला सुनाते हुए जस्टिस लोढ़ा समिति की सिफारिशों के मद्देनजर बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को पद से हटा दिया।

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अगुआई वाली खंडपीठ द्वारा यह कड़ा फैसला सुनाया गया। सुप्रीम कोर्ट बीसीसीआई के संचालन के लिए समिति गठित करेगी तब तक सीनियर उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव बीसीसीआई का काम संभालेंगे। बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर पर गलत हलफनामा दायर करने के लिए अवमानना का मुकदमा दर्ज किया जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने ये फैसले बीसीसीआई द्वारा लोढ़ा समिति की सिफारिशें न मानने पर लिए हैं।

देश की सर्वोच्च अदालत ने कहा कि 18 जुलाई 2016 को जो आदेश दिया गया था बीसीसीआई के दो अधिकारियों (अनुराग ठाकुर और अजय शिर्के) ने उसका पालन नहीं किया, इसलिए इन्हें इनके पद से हटाया जाता है।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर जस्टिस लोढ़ा ने कहा, ‘यह तो होना ही था। अब जाकर हुआ है। हमने सुप्रीम कोर्ट में तीन रिपोर्ट फाइल की थीं। इसके बावजूद इन्हें लागू नहीं किया गया।’ उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश दूसरे खेल संघों के लिए एक नजीर की तरह होना चाहिए। यह क्रिकेट की जीत है। प्रशासक आएंगे और जाएंगे, पर इस फैसले से क्रिकेट का भला होगा।

बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को पद से हटाया

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-