नई दिल्ली। अरुण जेटली ने बजट 2017-18 पेश किया। उन्होंने बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार जनता के पैसे की पहरेदार है।

उन्होंने बताया कि इस बजट के जरिए सबको फायदा पहुंचाने की काशिश की गई है और धीमी पड़ रही अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की कोशिश की गयी है। इस साल के बेहतर मानसून को देखते हुए उन्होंने अच्छे फसल की उम्मीद जतायी और किसानों के लिए ढेर सारी नई घोषणाएं की।

– वित्त मंत्री ने कहा मनरेगा को नए तरीके से किसानों के समक्ष ले जा रहे हैं ताकि उनका आय बढ़ सके। साथ ही कृषि विकास दर 1.4 फीसद होने का अनुमान की बात भी कही।

– कृषि विज्ञान क्षेत्र में और अधिक लैब बनाने का लक्ष्‍य

– नाबार्ड के तहत सिंचाई के लिए 40 हजार करोड़ रुपये की घोषणा

– फसल बीमा के लिए 9 हजार करोड़ रुपये की घोषणा

– 20 हजार करोड़ रुपये तीन साल में नाबार्ड के लिए

– 5 साल में किसानों की आमदनी दोगुनी करनी है

– सूक्ष्म सिचाई निधि 5 हजार करोड़ रुपये

– 8 हजार करोड़ मिल्‍क प्रोसेसिंग फंड

– किसानों का कर्ज समय पर मिले

– दस लाख करोड़ का कृषि कर्ज का लक्ष्‍य

– किसानों की आमदनी पर ध्यान देेने का लक्ष्य

बजट 2017-18: सरकार जनता के पैसे की पहरेदार है: जेटली

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-