index

सागर।प्राइवेट स्कूल अभिभावकों को लूट रहे हैं, ऐसी खबरें तो आप आए दिन पढ़ते हैं। लेकिन यहां मामला एकदम अलग है। सागर के सरकारी स्कूलों में फीस के नाम पर बच्चों से अवैध वसूली की जा रही है। यह कृत्य संगठित तौर पर हो रहा है यानी पूरे जिले में इस तरह की वसूली कर घोटाला किया जा रहा है। मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल ने नामांकन शुल्क (नवमीं में एक बार) 150 रुपए तय किया है।

इसके साथ कियोस्क शुल्क 25 रुपए रखा है। इस हिसाब से 175 रुपए प्रत्येक विद्यार्थी से लेना है, लेकिन कोई स्कूल 180 रुपए, कोई 200 रुपए तो कोई 207 रुपए ले रहा है। यानी औसत रूप से सिर्फ नामांकन के नाम पर 20.66 रुपए प्रत्येक विद्यार्थी से ज्यादा वसूले गए। जिले के 9वीं के ही 43616 विद्यार्थियों से सिर्फ नामांकन के नाम पर 9 लाख रुपए ज्यादा ले लिए गए। अन्य शुल्क मिलाकर यह घोटाला 80 लाख रुपए से ऊपर निकल सकता है।

दरअसल, सरकारी स्कूलों की फीस तो शासन तय करता है, लेकिन इसकी वसूली की जिम्मेदारी प्राचार्यों पर होती है। उनसे न समय पर हिसाब मांगा जाता है और न ही इस वसूली पर किसी अधिकारी की नजर होती है। यही कारण है कि लगभग सभी सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों से ज्यादा वसूली की जा रही है।

फीस के नाम पर बच्चों से अवैध वसूली की जा रही

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-