omar-jk-situation_2016822_112350_22_08_2016

नई दिल्ली। जम्‍मू-कश्‍मीर के मुद्दे पर सोमवार को उमर अब्दुल्‍ला की अगुवाई में वहां के विपक्षी नेताओं का प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने साउथ ब्लॉक पहुंचा। नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने पैलेट गन के इस्तेमाल पर जल्द रोक लगाने की मांग की।

उन्होंने कहा कि कश्मीर में शांति बहाली के लिए केंद्र सरकार को सभी पक्षों से बातचीत करने की जरूरत है। उमर ने कहा कि राज्य में अगर हालात पर तत्काल नियंत्रण नहीं पाया गया तो कश्मीर के युवाओं में अलगाव की भावना और पनपेगी।

उमर अब्दुल्ला के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने गत दिवस राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और कांग्रेस उप प्रधान राहुल गांधी से भेंट की थी। कश्मीर में खराब हालात पर चर्चा के लिए विपक्षी पार्टियां दिल्ली में है। उमर अब्दुल्ला प्रधानमंत्री से मुलाकात कर कश्मीर समस्या पर विपक्ष की चिंता से अवगत करवाया और साथ ही कश्मीर में खराब स्थिति को सामान्य बनाने के लिए राजनीतिक समाधान पर जोर दिया।

इससे पहले जम्मू-कश्मीर की विपक्षी पार्टियों के प्रतिनिधिमंडल ने नई दिल्ली में कांग्रेस के उप प्रधान राहुल गांधी से मुलाकात कर कश्मीर के खराब हालात पर चर्चा की। पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान जीए मीर ने राहुल गांधी के साथ कश्मीर की खराब स्थिति पर बातचीत करते हुए कहा कि केंद्र व राज्य सरकार स्थिति से निपटने में नाकाम रही है। उमर ने कहा कि स्थिति को सामान्य बनाने के लिए राजनीतिक प्रयास जरूरी है।

हम पहले भी कह चुके हैं कि कश्मीर में समस्या के समाधान के लिए राजनीतिक तरीका अपनाया जाना चाहिए। जीए मीर ने कहा कि सरकार को कश्मीर के मुख्यधारा से जुड़े लोगों से बातचीत कर उन्हें विश्वास में लेना चाहिए और हालात सामान्य बनाने की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए। हम यह नहीं कहते कि पाकिस्तान या आतंकवाद से कोई समझौता किया जाए, लेकिन मुख्यधारा वाले लोगों से बातचीत की जाए।

मीर ने कहा कि लोगों तक पहुंचना चाहिए और यह समस्या मात्र कानून व्यवस्था की नहीं है। हिसा से किसी समस्या का समाधान नहीं निकलने वाला है। स्थिति को सामान्य बनाने में विपक्षी पार्टियां भी अपना योगदान दे सकती है। करीब डेढ़ घंटे चली बैठक में कांग्रेस उप प्रधान राहुल गांधी ने कश्मीर में खराब हालात पर चिंता जताते हुए विपक्ष के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार को शीघ्र स्थिति सामान्य बनाने के लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए। माकपा के वरिष्ठ नेता विधायक मुहम्मद यूसुफ तारीगामी ने कहा कि कश्मीर की समस्या को राष्ट्रीय स्तर की समस्या मानकर इसका राजनीतिक समाधान करना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद घाटी में स्‍थिति काफी तनावपूर्ण है और वहां कर्फ्यू लागू है।

पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक की मांग

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-