dgp-javeed-ahmed_1460159367

मथुरा बवाल के बाद यूपी के डीजीपी जाविद हमीद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि कल की घटना के दौरान पुलिस केवल निरीक्षण के लिए गई थी, कार्रवाई की योजना दो-तीन दिन बाद की थी।

इस दौरान पुलिस प्रशासन कोई कार्रवाई के मूड में नहीं थी। हालांकि पुलिस के निरीक्षण कार्यक्रम के दौरान ही प्रदर्शनकारियों ने हमला कर दिया।

डीजीपी के मुताबिक प्रदर्शनाकरियों ने पुलिस टीम पर लाठी-डंडों, हथियारों से हमला कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने पहले से ही गोला-बारूद भी एकट्ठा कर रखे थे। उन्होंने उन झोपड़ियों में आग लगाई जिसमें पहले से गैस सिलेंडर रखे हुए थे। इस दौरान हमारे दो पुलिस अधिकारी शहीद हो गए।

डीजीपी ने बताया कि पुलिस टीम पर हथियारों से हमला किया गया। इस कार्रवाई में 23 पुलिसकर्मी घायल हैं। उन पर गोलियों और लाठियों से हमला किया गया जिससे उन्हें गंभीर चोटें भी आई हैं।

डीजीपी ने बताया कि पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हुआ विवाद कई घंटे तक चलता रहा। इस कार्रवाई में मथुरा की जनता ने पुलिस का साथ दिया। जिसके चलते जवाहर बाग को पूरी तरह से खाली करा लिया गया है।

डीजीपी जाविद हमीद के मुताबिक इस कार्रवाई में कुल 22 उपद्रवियों की जान गई है। वहीं पुलिस के दो अधिकारी भी शहीद हुए हैं। फिलहाल पूरे मामले में 124 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। इन पर बलवा करने, हत्या करने जैसी संगीन धाराएं लगाई गई हैं।

पुलिस कार्रवाई नहीं, निरीक्षण के लिए गई थी: डीजीपी

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-