अमृतसर लोकसभा समेत पांच विधानसभा क्षेत्रों के 48 बूथों पर हुए पुर्नमतदान के बाद पंजाब का कुल मत प्रतिशत गिर गया है। चार फरवरी को हुए मतदान के बाद मत देने वालों का कुल प्रतिशत 78.6 था।

अब यह गिरकर 77.36 हो गया है। पंजाब में चुनाव के दौरान 1.54 करोड़ लोगों ने अपने अधिकार का इस्तेमाल किया। आडिट पेपर व ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने पुर्नमतदान का आदेश दिया था।

नौ फरवरी को जहां पर वोट डाले गए उनमें अमृतसर लोकसभा के साथ पांच विधानसभा क्षेत्रों में वोट डाले गए।

इस दौरान मजीठिया विधानसभा क्षेत्र के 12, मुक्तसर व संगरूर के 9-9, मोगा व सरदूलगढ़ के 1-1 व अमृतसर लोकसभा क्षेत्र के 16 पोलिंग स्टेशनों पर दोबारा वोट डाले गए।

पुर्नमतदान के बाद चुनाव आयोग ने दोबारा हिसाब किताब किया तो कुल मत प्रतिशत पहले से कम आया। आयोग का कहना है कि 2012 के विस चुनाव में 78.57 प्रतिशत लोगों ने अपने वोट का इस्तेमाल किया था।

राज्य में कुल 1.98 करोड़ मतदाता हैं। मतदान में महिलाओं का रुझान पुरुषों से ज्यादा देखने के मिला। चुनाव में 78.12 फीसद महिलाएं वोट डालने के लिए पहुंची तो पुरुषों का आंकड़ा 76.69 तक सिमट गया।

सबसे ज्यादा मत सरदूलगढ़ में पढ़े। यहां कुल 88.92 प्रतिशत लोगों ने अपने अधिकार का इस्तेमाल किया तो सबसे फिसड्डी अमृतसर (प.) रही। यहां केवल 60.01 प्रतिशत लोगों ने वोट डाले।

पुर्नमतदान के बाद पंजाब का कुल मत प्रतिशत गिर गया

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-