pm_in_arlington

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पांच देशों की यात्रा के चौथे चरण में वाशिंगटन पहुंच गए हैं। प्रधानमंत्री मोदी कोलम्बिया अंतरिक्ष यान स्मारक भी गए। वहां उन्होंने कोलम्बिया यान दुर्घटना में मारे गए लोगों की समाधि पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। मोदी ने इस दौरान अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स और कल्पना चावला के परिवार से मुलाकात की। इस मौके पर अमरीका के रक्षा मंत्री एश्टन कार्टर भी मोदी के साथ थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने इसके बाद विदेश नीति निर्धारण में सहयोग देने वाले थिंक टैंक के साथ भी बैठक की। मोदी की पिछले दो साल में अमरीका की यह चौथी यात्रा है। राष्ट्रपति ओबामा के साथ उनकी यह तीसरी द्विपक्षीय बातचीत होगी। इससे पहले मार्च महीने में उन्होंने चौथे परमाणु सुरक्षा सम्मेलन के दौरान अमरीका का दौरा किया था।

इसके बाद पीएम मोदी अमेरिका के ब्लेयर हाउस पहुंचे, जहां दुर्लभ भारतीय कलाकृतियों को प्रत्यर्पित करने की रश्म अदायगी की गई। इस दौरान पीएम मोदी के साथ वहां की अटार्नी जनरल भी मौजूद थीं। लौटाई गई मूर्तियों में ब्रॉन्च से बने गणेश की भी मूर्ति थी। इसके अलावा जैन के बाहुबाली की भी मूर्ति प्रत्यर्पित की गई।सांस्कृतिक संपदा की स्वदेश वापसी पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि 200 कलाकृतियों को भारत वापस लाया जाएगा।

प्रधानमंत्री की इस यात्रा को दोनों देशों के बीच रक्षा और आर्थिक समझौतों को और मजबूती दिए जाने के परिप्रेक्ष्य में देखा जा रहा है। मोदी की प्रभावशाली अमरीकी थिंक टैंक के सदस्यों के साथ बैठक के दौरान परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में प्रवेश के लिए समर्थन की उम्मीदें भी जताई जा रही हैं। भारत के लिए एनएसजी की सदस्यता मिसाइल एवं अंतरिक्ष तकनीक का नियंत्रण करने वाले 34 सदस्यीय देशों के समूह मिसाइल टैक्नालॉजी कंट्रोल रैशीम (एमटीसीआर) के सदस्य बनने की दिशा में एक कदम हो सकता है।

एमटीसीआर का सदस्य बनने के बाद भारत उन्नत मिसाइल आयात करने के लिए पात्र होगा। मोदी अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा के साथ बैठक में शामिल होंगे। वह अमरीकी-भारतीय बिजनेस कौंसिल की बैठक को भी संबोधित करेंगे। आठ जून को वह अमरीकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगे और इसी दिन अमरीकी कांग्रेस अध्यक्ष मोदी के सम्मान में दोपहर भोज का आयोजन करेंगे।

 

पीएम मोदी ने अर्लिंगटन समाधि पर दी कल्पना चावला को श्रद्धांजलि

| देश विदेश | 0 Comments
About The Author
-