pooja-chauhan-suicide_22_08_2016

पटियाला। एक ओर बेटियां रियो में देश का नाम चमका रही हैं तो दूसरी ओर सिस्टम की मारी एक बेटी ने तंग आकर मौत को गले लगा लिया। हैंडबॉल की राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी पूजा चौहान ने शुक्रवार सुबह अपने घर में पंखे के साथ फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। खालसा कॉलेज की पूजा का आरोप है कि उसे कॉलेज में फिजिकल एजुकेशन विषय के सेकेंड ईयर में दाखिला तो दे दिया गया है लेकिन कॉलेज के एक प्रोफेसर ने उसे हॉस्टल देने से साफ मना कर दिया है। हॉस्टल न मिलने से उसका खेल कैरियर चौपट हो गया है, जिसके कारण उसने आत्महत्या करने जैसा कदम उठाया है।

पूजा के घर से मिले सुसाइड नोट में उसने खालसा कॉलेज के एक प्रोफेसर को अपनी मौत का जिम्मेदार बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि उसकी मौत के बाद उसके परिवार की मदद की जाए। सुसाइड नोट उसने अपने खून से लिखा है। फिलहाल पूजा का शव राजिंदरा अस्पताल की मोर्चरी में रखा गया है और मामले की जांच थाना कोतवाली पुलिस के पास है।

मृतक पूजा के पिता प्रभु चौहान मूल रूप से उत्तर प्रदेश के जिला गौंडा, गांव दानपूरवा पुरेनु सहारा के रहने वाले हैं। वो बीते 25 सालों से न्यू महिंदरा कालोनी, सामने महिंदरा कॉलेज पटियाला में रहता है और सहारा अस्पताल के साथ सब्जी बेचने का काम करता है।

प्रभु चौहान व लक्ष्मी ने बताया कि उसकी लड़की राष्ट्रीय स्तर की हैंडबॉल खिलाड़ी थी । वो एनआईएस में प्रैक्टिस करने जाती थी। पिछले साल उसे खालसा कॉलेज में फिजिकल एजुकेशन विषय में दाखिल मिला था और फ्री में हॉस्टल की सुविधा भी दी गई थी, लेकिन इस बार उसे सेकेंड ईयर में हॉस्टल देने से मना कर दिया गया था, जिसके चलते आहत होकर उसने आत्महत्या कर ली है।

पिता का आरोप है कि प्रोफेसर ने उसकी लड़की को कहा था कि वो उसे हॉस्टल देने के बदले एक लाख रुपए दे। वे पूजा के साथ उक्त प्रोफेसर को मिलने की कोशिश भी की थी लेकिन उसे मिलने नहीं दिया गया। घर से मिले सुसाइड में पूजा ने लिखा है कि उसकी मौत का जिम्मेदार कॉलेज का ही गिल सर है, जिसने उसे व उसकी एक दोस्त को हॉस्टल नहीं दिया है।

उसका परिवार गरीब है और उसके तीन भाई व बहन हैं। बड़ी बहन ममता महिला कॉलेज में, भाई अजय ढुडियाल खालसा व सबसे छोटी बहन दिव्या पुलिस लाइन सेकेंडरी स्कूल में पढ़ती है। पूजा दूसरे नंबर पर थी जो खालसा कालेज में सेकेंड ईयर में पढ़ना चाह रही थी।

प्रोफेसर के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज

इंस्पेक्टर गुरप्रीत सिंह भिंडर ने बताया कि पूजा के पिता ने कॉलेज के एक प्रोफेसर गिल के खिलाफ बयान दिया है कि उसने पिछले साल लड़की को फ्री में हॉस्टल दिया था, लेकिन इस बार उसने लड़की को हॉस्टल देने के लिए मना कर दिया है । इससे पहले वो लड़की को कहता रहा था को होस्टल मिल जाएगा ।

अब नया सेशन शुरु हुए काफी समय हो गया है इस लिए लड़की को पढ़ाई, होस्टल के साथ खेल में कैरियर बनाने में दिक्कत पेश आ रही थी । इस लिए उसने आत्महत्या कर ली है । पुलिस ने फिलहाल शिकायत के आधार पर प्रोफेसर गिल के खिलाफ मुकदमा (157) पूजा को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कर लिया है।

पुलिस जांच करके दिलाएगी सजा : मक्कड़

उधर, इस संबंध में कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. डीएस ऊभा से संपर्क नहीं हो सका। एसजीपीसी के अधीन खालसा कॉलेज के चलते एसजीपीसी के प्रधान अवतार सिंह मक्कड़ ने कहा कि इस बारे में उनको पास कोई जानकारी नहीं है।

मक्कड़ ने कहा कि उनकी कॉलेज के प्रिंसिपल से सुबह 2-3 बार फोन पर बात हुई है, लेकिन उन्होंने मुझे कोई जानकारी नहीं दी है। उन्होंने कहा कि अगर लड़की ने सुसाइड नोट में किसी प्रोफेसर का नाम लिखा है तो इसकी जांच पुलिस करेगी और दोषी को सजा दिलवाएगी।

पीएम मोदी के नाम खून से लिखा सुसाइड नोट

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-