ramchandra-guha-reservation 19 10 2016

देश के मशहूर इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने मंगलवार को कहा कि पाटीदार, मराठ और जाट आरक्षण के हकदार नहीं है। ये सभी प्रभावशाली और संपन्न है। इनका राजनीति और जमीन पर अच्छी पकड़ है। इनके आरक्षण आंदोलन के कारण अब सभी जाति के लोग आरक्षण अधिकार के लिए खड़े हो रहे हैं। इससे दलितों व आदिवासियों को चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

महात्मा गांधी द्वारा स्थापित अहमदाबाद गुजरात विद्यापीठ के 63वें दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रामचंद्र गुहा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि दलितों के लिए आरक्षण है क्योंकि ऐतिहासिक रूप से उनके साथ भेदभाव किया जाता है। जहां तक पाटीदार, जाट और मराठा का सवाल है तो यह तमाम जाति शक्तिशाली किसान हैं। उनकी मांगों के पीछे खेती के विकास में हुई कटौती है।

शिक्षा और बेरोजगारी भी इन आंदोलनों के लिए जिम्मेदार है, लेकिन इससे वे आरक्षण के हकदार नहीं हैं। दलितों के आरक्षण व्यवस्था में सुधार करने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि परिवार में जब एक व्यक्ति को आरक्षण का लाभ मिलता हो तब उनके संतानों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलना चाहिए। क्रिमीलेयर की प्रथा योग्य नहीं है।

पाटीदार, मराठा और जाट आरक्षण के हकदार नहींः रामचंद्र गुहा

| उत्तर प्रदेश | 0 Comments
About The Author
-